सुपर स्पेशलिटी अस्पताल की बड़ी लापरवाही, मंत्री के सामने भी खुले में पड़ी रहीं संक्रमित पीपीई किट

अस्पताल परिसर में मुख्य दरवाजे से कुछ दूर जनरेटर के पास डस्टबिन में खुले में संक्रमित पीपीई किट पड़ी हुई है, इसी के पास तीन एम्बुलेंस खड़ी हैं जिसमें मरीज हैं, बाहर भी व्हील चेयर पर बीमार मरीज है, यहाँ अटेंडर भी दिखाई दे रहा है

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों (Corona Positive Patient) के इलाज के लिए बनाये गए सुपर स्पेशलिटी अस्पताल (Super Specialty Hospital) की एक बड़ी लापरवाही सामने आयी है। यहाँ प्रतिबन्ध के बावजूद खुले में पीपीई किट (PPE Kit) पड़ी हुई है। बड़ी बात ये हैं कि जहाँ खुले में ये पीपीई किट (PPE Kit) पड़ी हैं वहीँ गंभीर मरीज भी मौजूद हैं, इतना ही नहीं ऊर्जा मंत्री एवं कोविड के लिए प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar)  के दौरे की सूचना के बाद भी संक्रमित पीपीई किट (PPE Kit) खुले में ही पड़ी रहीं। मीडिया ने जब मंत्री जी से इस विषय में सवाल किया तो उन्होंने कहा कि मैने तत्काल इसे हटाने के निर्देश दिए हैं।

कोरोना संक्रमण (Corona Infection) कितना खतरनाक है ये पिछले एक साल से दुनिया देख रही है। संक्रमण से बचने और दूसरों को बचाने के लिए बहुत से नियम हैं।  अस्पतालों के लिए भी प्रोटोकॉल है जिसमें सबसे बड़ा प्रोटोकॉल है कि संक्रमित मेडिकल वेस्ट जैसे ग्लव्स, पीपीई किट (PPE Kit) आदि खुले में नहीं फेंकी जायेंगे इन्हें उपयोग के बाद नष्ट कर दिया जाएगा।  लेकिन ग्वालियर में कोरोना संक्रमितों का इलाज कर रहा सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल सुपर स्पेशलिटी अस्पताल (Super Specialty Hospital) इन प्रोटोकॉल को कितना मानता है इसकी तस्वीर शनिवार को देखने को मिली।

ये भी पढ़ें – भोपाल में 26 अप्रैल तक बढ़ा कोरोना कर्फ्यू, इस बार ज्यादा सख्ती से होगा पालन

दरअसल मध्यप्रदेश के ऊर्जा मंत्री एवं कोविड के लिए नियुक्त प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) आज शनिवार को दोपहर में जयारोग्य अस्पताल समूह के सुपर स्पेशलिटी अस्पताल (Super Specialty Hospital) पहुंचे वहां उन्होंने अस्पताल अधीक्षक डॉ गिरिजा शंकर गुप्ता सहित अन्य चिकित्सकों से मरीजों के लिए उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी ली। मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) ने कहा कि व्यवस्थाएं ठीक हैं, जहां कमी हैं कमियों को दूर कर रहे हैं, उन्होंने कहा कि हम ऑक्सीजन बेड बढ़ा रहे हैं वेंटिलेटर की संख्या बढ़ा रहे हैं, वार्ड बॉय की कमी को दूर करने के निर्देश दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें – प्रशासन ने जारी की अस्पतालों की सूची, विधायक के रियलिटी चैक में सच आया सामने

मीडिया ने जब मंत्री की मौजूदगी में ही अस्पताल परिसर में ही संक्रमित पीपीई किट (PPE Kit) और अन्य मेडिकल वेस्ट पड़े होने पर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि मैंने इसे तत्काल हटाने के निर्देश दिए हैं. कोरोना कर्फ्यू बढ़ाये जाने के सवाल पर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) ने कहा कि जनहित में जो भी फैसला होगा लिया जाएगा।

सुपर स्पेशलिटी अस्पताल की बड़ी लापरवाही, मंत्री के सामने भी खुले में पड़ी रहीं संक्रमित पीपीई किट सुपर स्पेशलिटी अस्पताल की बड़ी लापरवाही, मंत्री के सामने भी खुले में पड़ी रहीं संक्रमित पीपीई किट

बहरहाल सुपर स्पेशलिटी अस्पताल (Super Specialty Hospital) के बाहर शनिवार को एक ऐसी तस्वीर दिखाई दी जो कोरोना महामारी के बीच लापरवाही ही नहीं बदइंतजामी की भी पोल खोलती है और ये तब होता है जब अस्पताल प्रबंधन को मालूम होता है कि मध्यप्रदेश शासन के ऊर्जा मंत्री और कोविड के लिए नियुक्त प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) आने वाले हैं। अस्पताल परिसर में मुख्य दरवाजे से कुछ दूर जनरेटर के पास डस्टबिन में खुले में संक्रमित पीपीई किट (PPE Kit) पड़ी हुई है, इसी के पास तीन एम्बुलेंस खड़ी हैं जिसमें मरीज हैं, बाहर भी व्हील चेयर पर बीमार मरीज है, यहाँ अटेंडर भी दिखाई दे रहा है, अन्य कई लोग भी आते जाते दिखाई दे रहे हैं तो क्या ये संक्रमण को बढ़ाने के लिए नाकाफी हैं? लेकिन इसका जवाब कोई जिम्मेदार देने को तैयार नहीं है।