कोरोना के मद्देनजर ग्रामीणों ने खुद को किया कैद, बाहरी लोगों के लिए ग्राम में प्रवेश पर लगाया प्रतिबंध

लोगों ने अपने आप को गांव में ही कैद (imprisoned) कर लिया और बाहर से आने-जाने वाले लोगों पर पूर्णतः प्रतिबंध (ban) लगा दिया।

कोरोना, टीकमगढ़

टीकमगढ़, आमिर खान। कोरोना (corona) के संक्रमण (infection) से बचने के लिए टीकमगढ़ के पैतपुरा गांव के लोगों ने अपने आप को गांव में ही कैद (imprisoned) कर लिया और बाहर से आने-जाने वाले लोगों पर पूर्णतः प्रतिबंध (ban) लगा दिया। सिर्फ इमरजेंसी सेवा (emergency) के लिए ही गांव के लोग बाहर जा सकेंगे जिसको लेकर गांव के युवाओं ने सड़क पर सख्त निर्देश भी लिख दिए हैं।

यह भी पढे़ं… छतरपुर- कोरोना से जंग हारे एसडीएम संतोष चंदेल, हैदराबाद में निधन

पूरे देश में एक ओर जहां कोरोनावायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है चारों तरफ हाहाकार मचा हुआ है। ऐसे में अब इस वायरस से बचने के लिए अपने आप को कैद करना ही बचाव का सही तरीका है। ऐसी ही कुछ सीख दी है टीकमगढ़ जिले के पैतपुरा गांव के निवासियों ने। जहां ग्राम पंचायत के लोगों ने मिलकर फैसला लिया है कि अब गांव में बाहर से आने जाने वाले लोगों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया जाए जिसको लेकर गांव के युवाओं ने प्रवेश मार्ग की सड़क पर सख्त निर्देश भी लिख दिए हैं। ताकि बाहर से आने वाले लोग इन निर्देशों को पढ़ सकें और पढ़ने के बाद ही आगे बढ़े वैसे तो ग्रामवासी अपने ग्राम की बाहर से आने वाले लोगों के लिए बदल बदल कर पहरेदारी भी कर रहे हैं ताकि कोई बाहरी व्यक्ति अंदर गांव में नहीं जा सके जिसको लेकर गांव के लोगों ने प्रशासन से बैरिकेट्स लगाने की भी मांग की है।

यह भी पढ़ें… मध्य प्रदेश में 12762 नए केस और 95 की मौत, कई जिलों में कोरोना कर्फ्यू बढ़ाया

गांव के लोगों का कहना है कि शहरों में तेजी से संक्रमण फैल रहा है। लोग भी सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं कर रहे हैं और मास्क नहीं लगा रहे हैं, जिससे संक्रमण नहीं रुक रहा है लेकिन हम ग्रामीणों ने फैसला किया है कि अब गांव में किसी भी तरह से बाहरी लोगों को प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। ताकि गांव के लोग इस संक्रमण से बच सकें। यही बचाव का सही तरीका है। पैतपुरा गांव के लोगों ने संक्रमण से बचने के लिए अपने आपको तो कैद कर लिया है लेकिन शहर के पढ़े-लिखे लोग अभी भी सीख नहीं ले पा रहे हैं। अगर लोगों को कोरोना जैसी बीमारी से बचना है, तो पैतपुरा गांव के लोगों की इस पहल की सीख लेने की जरूरत है।