कर्मचारियों की बड़ी तैयारी, करेंगे काम बंद हड़ताल, मंहगाई भत्ते-पेंशन और वेतन समेत कई मांग

MP Employees News : नए साल से पहले अपनी मांगों को लेकर अलग अलग वर्गों के कर्मचारियों ने हड़ताल पर जाना शुरू कर दिया है। मध्यप्रदेश विश्वविद्यालयीन कर्मचारी महासंघ के आव्हान पर प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों ने बुधवार 28 दिसंबर को काम बंद हड़ताल का ऐलान किया है, इसकी सूचना कर्मचारी संघ ने विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति को दे दी है। इसके लिए वे मंगलवार को सामूहिक अवकाश पर रहेंगे। इस दौरान कर्मचारी कोई कार्य नही करेंगे।

विश्वविद्यालयों के कर्मचारियों द्वारा 28 दिसंबर को विभिन्न मांगों को लेकर पहले चरण में सामूहिक अवकाश से प्रदेश शासन के खिलाफ विरोध दर्ज कराया जाएगा। सोमवार को विक्रम विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ ने कुलपति को पांच सूत्रीय मांग पत्र के साथ सामूहिक रूप से अवकाश पर जाने की सूचना दी है। इसके बाद भी अगर मांगे नहीं मानी गई तो आगे की रणनीति नए साल में तैयार की जाएगी। यदि मांगे नहीं मानी गई तो महासंघ की बैठक के बाद आगामी आंदोलन का निर्णय लिया जाएगा।

यह है कर्मचारियों की मांगे

  •  वर्ष 2007 के पश्चात् नियुक्त स्थाई कर्मचारियों 1 वर्ष से अधिक समय व्यतीत होने के बाद भी वेतन का भुगतान नहीं किया गया है तत्काल वेतन भुगतान किया जाए।
  • विश्वविद्यालयों में रिक्त अशैक्षणिक पदों पर वर्षो से कार्यरत स्थाई कर्मचारियों को नियमित किया जाए।फरवरी 2021 में समन्वय समिति से अनुमोदित मेडिक्लेम पॉलिसी का तत्काल लागू किया जाए।
  •  विश्वविद्यालयीन पेंशनरों को तत्काल शासन के कर्मचारियों के समान सातवें वेतनमान से पेंशन एवं महंगाई भत्ते का भुगतान किया जाए।श्रमसाध्य भत्ते के संबंध में जारी निदेर्शों पर पुन: विचार कर नवीन निर्देश जारी किए जाए।