उपचुनाव 2020 : BJP विधायकों ने ठोका दिग्विजय सिंह के खिलाफ मानहानि का केस

दिग्विजय सिंह ने पोस्ट में लिखा था कि लोकतंत्र के बही खाते में जो लोग कांग्रेस से गद्दारी 35-35 करोड़ रुपए में बिके और उन्हें जिन लोगों ने वोट दिया उसमें से वोट देने वालों को उनका हिस्सा देना चाहिए।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (Former Chief Minister Digvijay Singh) के खिलाफ भोपाल (Bhopal)  की विशेष सत्र न्यायालय (Special Sessions Court) में भाजपा के मंत्री और पूर्व विधायकों ने 10-10 करोड़ रुपए की मानहानि (Defamation) का केस लगाया है।

मंत्रियों और पूर्व विधायकों की ओर से यह परिवाद ग्वालियर (Gwalior) के वकील विजय कुमार शर्मा (Vijay Kumar Sharma) और शरद भटनागर (Sharad Bhagyanagar) ने पेश किया है। विशेष सत्र न्यायालय ने सभी मामलों को सुनवाई के लिए ग्राह कर लिया है। इस मामले में सुनवाई 18 नवंबर को होगी।

दरअसल, दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने कांग्रेस (Congress) छोड़कर BJP में शामिल होने वाले 17 मंत्री विधायकों को लेकर पिछले दिनों व्हाट्सएप पर एक पोस्ट की थी, इस पोस्ट में उन्होंने भाजपा के मंत्री विधायकों को बिकाऊ बताते हुए उनकी कीमत 35-35 करोड़ रुपए बताई थी। इस पोस्ट के साथ दिग्विजय सिंह ने मंत्री और विधायकों के रेट कार्ड भी जारी किए थे।

क्या लिखा था पोस्ट में

इतना ही नही दिग्विजय सिंह ने पोस्ट में लिखा था कि लोकतंत्र के बही खाते में जो लोग कांग्रेस से गद्दारी 35-35 करोड़ रुपए में बिके और उन्हें जिन लोगों ने वोट दिया उसमें से वोट देने वालों को उनका हिस्सा देना चाहिए। जब तक उन्हें उनका 35 करोड़ रुपए में से हिस्सा ना मिले तब तक वोट नहीं देना चाहिए। भाजपा के मंत्री विधायकों ने इसे अपनी मानहानि मानते हुए भोपाल के विशेष सत्र न्यायालय में परिवाद प्रस्तुत किया है।

इन्होंने पेश किए परिवाद

परिवाद पेश करने वाले ग्वालियर के वकील विजय कुमार शर्मा और शरद भटनागर ने बताया कि दिग्विजय सिंह द्वारा मंत्री पूर्व मंत्री और विधायकों को लेकर की गई टिप्पणी को लेकर उन्होंने भोपाल की विशेष सत्र न्यायालय एमपीएमएएल में परिवाद प्रस्तुत कर 10-10 करोड़ की मानहानि का दावा किया है। उन्होंने बताया कि दिग्विजय सिंह ने जो पोस्ट सोशल मीडिया पर की थी और जो आरोप उन्होंने भाजपा के मंत्री विधायकों पर लगाए थे उनका अब तक वह कोई प्रमाण नहीं दे सके हैं। उन्होंने बताया कि अब तक मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर,।पूर्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया, बिसाहूलाल सिंह, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, डॉ. प्रभु राम चौधरी, पूर्व विधायक जसवंत सिंह, मुन्नालाल गोयल, मनोज चौधरी, रक्षा सिनौरिया ने विशेष सत्र न्यायालय में परिवाद प्रस्तुत किया है।

यह भी लगा सकते हैं परिवाद

दिग्विजय सिंह ने 17 मंत्री विधायकों को लेकर फेसबुक पर पोस्ट की थी इसके बाद से सभी इसे अपनी मानहानि मान रहे। अभी 10 मंत्री पूर्व मंत्री और पूर्व विधायकों ने न्यायालय में परिवाद लगाया है। बताया जा रहा है कि शेष पूर्व विधायक भी जल्द ही विशेष सत्र न्यायालय में परिवाद प्रस्तुत करेंगे। इनमें रणवीर सिंह जाटव, नारायण पटेल, मंत्री हरदीप सिंह डंग, मंत्री गिर्राज दंडोतिया, पूर्व मंत्री तुलसीराम सिलावट, पूर्व विधायक प्रद्युमन सिंह लोधी और सुमित्रा कासडेकर ने परिवाद प्रस्तुत नहीं किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here