MP उपचुनाव : मतदान से पहले कमलनाथ का मास्टरस्ट्रोक, किया यह बड़ा ऐलान

कांग्रेस सरकार बनने पर संविदा कर्मचारियों व रोजगार सहायको को नियमित करते हुए, इनका मानदेय एवं सुविधाएं नियमित कर्मचारियों की तरह ही करेंगे।

kamalnath

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश उपचुनाव (Madhya Pradesh By-election) की वोटिंग (Voting) से पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने वोटरों (Voter) को साधने बड़ा दांव चला है। कमलनाथ ने संविदा कर्मचारी (Contract Worker), रोजगार सहायक और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को लेकर बड़ा ऐलान किया है। कमलनाथ ने इन तीनों को मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही रेगुलर किया जाएगा। प्रचार के आखिरी दौर में कमलनाथ ने यह बड़ा मास्टर स्ट्रोक चलकर भाजपा खेमे में खलबली मचा दी है, हालांकि यह कितना कारगार साबित होगा ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा।

कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा है कि कांग्रेस सरकार बनने पर हम आंगनवाड़ी कार्यकर्ता (Anganwadi Worker), सहायिकाओं और आशा कार्यकर्ताओं (ASHA workers) को स्थायी कर्मचारी घोषित करते हुए इनके मानदेय में बढ़ोतरी करेंगे।इसके लिये हम वचनबद्ध है। अगले ट्वीट में कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा है कि भाजपा सरकार के कार्यकाल में नौकरी से बाहर किए गए संविदा कर्मचारियों को कांग्रेस सरकार (Congress Government) के दौरान प्रारंभ की गई निष्कासित वापसी प्रक्रिया को जल्द पूरा करते हुए निष्कासित संविदा कर्मचारियों को पुनः नौकरी (job) में बहाल किया जाएगा।इसके लिये हम वचनबद्ध है।

वही आखिरी ट्वीट में नाथ लिखा है कि कांग्रेस सरकार बनने पर संविदा कर्मचारियों व रोजगार सहायको को नियमित करते हुए, इनका मानदेय एवं सुविधाएं नियमित कर्मचारियों (Employees) की तरह ही करेंगे।खास बात ये है कि 2018 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस (Congress) के वचन पत्र (Promissory Note) ने महत्वपूर्व भूमिका निभाई थी और 15 साल के वनवास के बाद प्रदेश की सत्ता हासिल की थी।इसी तर्ज पर कांग्रेस उपचुनावों में भी वही मास्टरस्ट्रोक खेलने जा रही है।

इससे पहले कांग्रेस कर चुकी है बड़ी ऐलान

आपको बता दे कि इसके पहले कांग्रेस ने 28 सीटों के लिए वचन पत्र जारी किया था, जिसमें उन्होंने गोधन सेवा योजना, किसान कर्ज माफ जैसे कई बड़े ऐलान किए थे।इसके अलावा व्यापारी, किसान, महिला, युवा, कर्मचारी के मुद्दों के साथ मध्यप्रदेश भविष्य योजना को भी वचन पत्र में शामिल किया है।वही ग्वालियर चम्बल में लक्ष्मीबाई की प्रतिमा और शौर्य स्मारक स्थापित किए जाने और कोरोना से मृत्यु होने पर भरण-पोषण के लिए पेंशन देने के प्रावधान को वचनपत्र में शमिल किया गया है। इसके साथ ही घर के एक सदस्य को नौकरी का एलान किया गया है। घोषणा पत्र में व्यापारियों के लिए 50 हजार रुपए तक की सहायता की बात की गई है। कमलनाथ ने कहा कि अगले 15 दिनों में जनता विचार करके मध्य प्रदेश के भविष्य सुरक्षित हाथों में रखने पर विचार करेगी।