अधिकारियों-कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, अब मिलेगा इस भत्ते का लाभ, खाते में आएगी बड़ी राशि, ये रहेंगे नियम-पात्र

यह लाभ केवल स्थायी अधिकारियों को ही मिलेगा। योजना का लाभ लेने के लिए कंपनी प्रबंधन की ओर से संबंधित अधिकारी को अग्रिम राशि दी जाएगी।

salary news

Sail Officer Allowances : सेल के हजारों अधिकारियों के लिए अच्छी खबर है। अब स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड सेल में कार्यरत अधिकारियों को फर्नीचर भत्ते का लाभ दिया जाएगा। इस संबंध में सेल कंपनी प्रबंधन ने आदेश जारी कर दिया है, साथ ही योजना को तत्काल प्रभाव से लागू भी कर दिया है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक,  कंपनी के इस फैसले से बोकारो इस्पात संयंत्र सहित अलग-अलग इकाई में कार्यरत 15 हजार अधिकारियों को लाभ मिलेगा।इसके लिए अधिकारियों को कुछ नियमों का पालन करना होगा। प्रबंधन द्वारा तय मापदंड के अनुसार अलग-अलग ग्रेड के अफसरों को उनके संवर्ग के अनुसार राशि का भुगतान किया जाएगा।

ग्रेड के हिसाब से मिलेगी राशि

कंपनी की योजना के नियम के तहत, सहायक प्रबंधक को 15 हजार, उप तथा वरीय प्रबंधक को 25 हजार, वरीय प्रबंधक व सहायक महाप्रबंधक को 50 हजार, उप महाप्रबंधक को 1 लाख ,महाप्रबंधक को 5 लाख,मुख्य महाप्रबंधक को 25 लाख, अधिशासी निदेशक को 40 लाख,सेल चेयरमैन को 1 करोड़ राशि मिलेगी।अगर कोई अधिकारी राशि लेने के बाद भी सामान नहीं खरीदता है और रसीद जमा नहीं करता है तो उसे 18 प्रतिशत ब्याज कंपनी प्रबंधन को देना होगा।

ये रहेंगे नियम-शर्ते

  • यह लाभ केवल स्थायी अधिकारियों को ही मिलेगा। योजना का लाभ लेने के लिए कंपनी प्रबंधन की ओर से संबंधित अधिकारी को अग्रिम राशि दी जाएगी।
  • राशि लेने के बाद दो माह के अंदर सामान की खरीदारी अथवा किराये पर लेनी अनिवार्य होगी और रकम का भुगतान डिजिटल मोड में दुकानदार को करना होगा।
  • सामान की प्राप्ति रशीद वित्त एवं लेखा विभाग में देना होगा।सामान के प्राप्ति रशीद के सत्यापन का अधिकार कंपनी प्रबंधन के पास रहेगा।
  • अगर कोई अधिकारी राशि लेने के बाद भी सामान नहीं खरीदता है और रसीद जमा नहीं करता है तो उसे 18 प्रतिशत ब्याज कंपनी प्रबंधन को देना होगा।
  • संबंधित अधिकारी को न्यूनतम एक हजार रुपये का सामान लेना अनिवार्य होगा।सामान के बेहतर रख रखाव की जिम्मेदारी संबंधित अधिकारी के उपर होगी।
  • अगर भता लेने वाले अधिकारी का तबादला  हो गया है, उसका सारा विवरण लेखा विभाग के पास जमा होगा।

 


About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)