Punjab Politics: सीएम की कुर्सी पर मंडराया खतरा!, कई कैबिनेट मंत्री दे सकते है इस्तीफा

punjab

लुधियाना, डेस्क रिपोर्ट। नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को कांग्रेस अध्यक्ष  (Punjab Congress President) बनाए जाने के बाद भी पंजाब (Punjab politics) में सियासी बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब पंजाब के सीएम  कैप्‍टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) की कुर्सी पर खतरा मंडराने लगा है। विधायकों और मंत्रियों ने कैप्टन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और इस्तीफे की मांग पर अड़ गए है।चर्चाएं तो ये भी है कि बगावत के चलते कई मंत्री इस्तीफा भी दे सकते है।

यह भी पढ़े.. Road Accident: कांग्रेस विधायक के बेटे समेत 3 की दर्दनाक मौत, कार में बुरी तरह फंसे शव

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh)के खिलाफ एक बार फिर बगावत सुर फूटने लगे है। दो दर्जन विधायकों और करीब आधा दर्जन मंत्रियों ने कैप्टन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। मंगलवार को सिद्धू के करीबी कैबिनेट मंत्री तृप्त राजेंदर बाजवा के घर पर सभी असंतुष्ट विधायकों और मंत्रियों की बैठक हुई है, जिसमें 3 मंत्रियों और 20 विधायकों (MLA) शामिल हुए और इस्तीफे की मांग को बुलंद किया।मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि मंत्री सुखजिंदर रंधावा, सुखबिंदर सरकारिया, तृप्त राजिंदर बाजवा, चरणजीत चन्नी और महासचिव परगट सिंह दिल्ली जाएंगे।

इस संबंध में वे सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से  भी मुलाकात कर सकते हैं। बैठक के बाद तृप्त बाजवा (Tript Rajinder Bajwa) ने बताया कि सीएम साहब कांग्रेस को बांटना चाहते हैं, इसलिए मैं और हम सभी चाहते हैं कि सीएम को बदलना चाहिए, नहीं तो कांग्रेस नहीं बचेगी।हमारे पास उनको बदलने के अलावा कोई ऑप्शन नहीं है। न कोई काम हुआ और न कोई वादा पूरा हुआ। इसलिए हम आलाकमान को बताएंगे कि सीएम ने लोगों का भरोसा खो दिया है।बाजवा ने दावा किया कि  बैठक में 46 विधायक शामिल हुए थे और कई दूसरे विधायक विद्रोही खेमे में भी हैं, लेकिन इस तरह की बैठक में खुलकर शामिल नहीं होना चाहते थे।

यह भी पढ़े.. Transfer : मध्य प्रदेश में पुलिसकर्मियों के तबादले, यहां देखें लिस्ट

सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से पहले वे प्रभारी महासचिव के पास ले जाएंगे और उन पर एक बैठक बुलाने का दबाव डालेंगे।वही विधायकों का कहना है कि उन्हें सीएम पर भरोसा नहीं और ना ही उनकी लीडरशीप पर। राज्य में पार्टी के नेताओं का उन पर से विश्वास उठ गया है। हालांकि, PCCC चीफ नवजोत सिंह सिद्धू इस बैठक का हिस्सा नहीं थे।इस हलचल के बीच गन्‍ना किसानों के मुद्दे पर सिद्धू के ट्वीट के भी अलग मायने निकाले जा रहे है। वहीं खबर है कि पांच से सात मंत्री इस्तीफा भी दे सकते हैं।