हजारों सेवानिवृत्त शिक्षकों-कर्मचारियों के लिए राहत भरी खबर, पेंशन को लेकर नया अपडेट, विभाग ने मांगी ये जानकारी, मिलेगा बड़ा लाभ

विश्वविद्यालयों द्वारा रिटायर शिक्षकों और कर्मचारियों को यह राशि पेंशन के रुप में बैंक खाते में भेजी जाती है। हालांकि शिक्षा विभाग विवि को राशि जारी ना कर जून से अब सीधे पेंशनरों के खाते में पेंशन भेजने की तैयारी कर रहा है।

pensioners pension

Bihar Retire Teacher Employees : बिहार के हजारों सेवानिवृत्त शिक्षकों और कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर है। पेंशन को लेकर शिक्षा विभाग ने बड़ा फैसला किया है। इसके तहत अब पेंशनरों को पेंशन राशि विश्वविद्यालय से नहीं मिलेगी बल्कि शिक्षा विभाग द्वारा सीधे बैंक खातों में भेजी जाएगी। इसके लिए शिक्षा विभाग ने विश्वविद्यालयों व अंगीभूत महाविद्यालयों से जानकारी मांगी है।इससे राज्य के 42 हजार सेवानिवृत्त शिक्षकों व कर्मचारियों को सीधा लाभ मिलेगा।

अब विवि नहीं, शिक्षा विभाग भेजेगा पेंशन की राशि

दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक, बिहार में विश्वविद्यालयों एवं अंगीभूत महाविद्यालयों से सेवानिवृत्त शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारियों को पेंशन की राशि भेजी जाती है, इसके लिए हर महीने बिहार शिक्षा विभाग की ओर से करीब 312 करोड़ सभी विश्वविद्यालयों को उपलब्ध कराई जाती है। विश्वविद्यालयों द्वारा सेवानिवृत्त शिक्षकों और कर्मचारियों को यह राशि पेंशन के रुप में बैंक खाते में भेजी जाती है। हालांकि शिक्षा विभाग विवि को राशि जारी ना कर जून से अब सीधे पेंशनरों के खाते में पेंशन की राशि भेजने की तैयारी कर रहा है।

विभाग ने मांगी जानकारी, जून से लाभ मिलने की उम्मीद

दैनिक जागरण के मुताबिक, शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मानें तो शिक्षकों और कर्मचारियों को सीधे वेतन भुगतान सुनिश्चित किये जाने के बाद दूसरे चरण में पेंशन भुगतान की प्रक्रिया में बदलाव लाया जाएगा। पहले चरण में जिस प्रक्रिया के तहत वर्तमान में कार्यरत शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारियों के वेतन भुगतान की व्यवस्था की जा रही है, इसी प्रक्रिया के तहत दूसरे चरण में पेंशन भुगतान की प्रक्रिया भी बदलेगी।


About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)