KKR VS DC: इस गलती के कारण ऋषभ पंत को भरना होगा 24 लाख का जुर्माना, BCCI ने लिया फैसला, बैन होने का मंडराया खतरा!

दिल्ली कैपिटल्स की टीम कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ तयशुदा समय से पीछे चल रही थी। 90 मिनट की बजाय टीम ने 20 ओवर को कराने में 2 घंटे का समय लिया।

Shashank Baranwal
Published on -
Rishabh Pant

Rishabh Pant IPL 2024: IPL 2024 का 16वां मुकाबला कोलकाता नाइट राइडर्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच खेला गया है। इस दौरान जहां KKR ने DC को 106 रनों से हराकर जीत की हैट्रिक लगाई है। वहीं दूसरी तरफ DC की परेशानी रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। दिल्ली कैपिटल्स की टीम 4 मैचों में महज 1 मुकाबले में जीत दर्ज कर पाई है। वहीं एक बार फिर कप्तान ऋषभ पंत पर एक बार फिर BCCCI ने ऐक्शन लिया है। आइए जानते हैं विस्तार से…

BCCI ने लगाया जुर्माना

दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान ऋषभ पंत पर BCCI ने एक बार फिर जुर्माने की कार्रवाई की है। इस बार पंत के खिलाफ 24 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है। दरअसल, ऋषभ पंत KKR के खिलाफ स्लो ओवर रेट से गेंदबाजी की। इस दौरान पंत की अगुवाई वाली DC की टीम ने तयशुदा वक्त में गेंदबाजी नहीं कर पाए। इसी की वजह से कप्तान के खिलाफ 24 लाख और पूरी टीम के खिलाफ 6-6 लाख रुपए या मैच फीस का 25 फीसदी जुर्माने के रूप में लगाया गया है।

तीसरी गलती पर हो जाएंगे बैन

कप्तान ऋषभ पंत अगर तीसरी बार स्लो ओवर रेट का शिकार होते हैं तो उनके खिलाफ एक मैच में बैन की कार्रवाई की जाएगी। दरअसल, BCCI  का नियम है कि तीसरी बार स्लो ओवर रेट का शिकार होने पर कप्तान को 30 लाख रुपए के जुर्माने के साथ एक मैच खेलने पर बैन लगा दिया जाता है। वहीं टीम के खिलाफ 12-12 लाख रुपए या मैच फीस का 50 फीसदी जुर्माना लगा दिया जाता है।

तयशुदा समय से चल रहे थे पीछे

दिल्ली कैपिटल्स की टीम कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ तयशुदा समय से पीछे चल रही थी। 90 मिनट की बजाय टीम ने 20 ओवर को कराने में 2 घंटे का समय लिया। वहीं चेन्नई सुपरकिंग्स के खिलाफ मुकाबले में दिल्ली कैपिटल्स की टीम 3 ओवर पीछे चल रही थी।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News