CORONA

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। अब बंद कमरों में भी आप जिनके साथ बैठे हैं, वह Corona संक्रमित है या नहीं। इस बात की पुष्टि की जाएगी। दरअसल इसके लिए एक नए उपकरण का निर्माण किया गया है। यह उपकरण हवा को अपनी तरफ खींच कर संक्रमित मरीजों की पुष्टि करेगा। कई स्टडी (study) में दावा किया गया है कि कोरोना (Corona) आपको हवा के जरिए भी पॉजिटिव (positive) बना सकता है। ऐसे में बंद कमरे में भी किसी दूसरे व्यक्ति की मौजूदगी में मास्क (mask) पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग (social distancing) की सलाह दी जाती है। इन सबके बीच CSIR ने अब एक ऐसे उपकरण की तलाश की है जो हवा में भी कोरोना की जांच कर सके। बंद कमरे में कोरोना होने पर जांच में यह उपकरण काम आएगा।

इस उपकरण का निर्माण CSIR की राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशाला (National Aerospace Laboratory) द्वारा किया गया है। नेशनल एयरोस्पेस लेबोरेटरी बैंगलोर के निदेशक जितेंद्र जे जाधव के अनुसार कमरे या हॉल में मौजूद सभी सदस्यों को खुद को Ready करने के लिए एक संदेश भी भेजा जाता है। डिवाइस को “PAN CSIR Air Sampler” नाम दिया गया है।

Read More: केंद्रीय मंत्री Scindia को Bombay Highcourt के निर्देश- जल्द से जल्द पूरा हो ये काम

इस उपकरण को किसी भी कमरे या हॉल में रखा जा सकता है। यह कमरे की हवा को अपनी ओर खींचती है। अगर संक्रमण हवा में है तो यह इस उपकरण तक पहुंच जाएगा। दिन में कुछ देर कमरे में रखने के बाद डिवाइस की मेम्ब्रेन की जांच आरटी-पीसीआर से करनी होती है। यदि यह सकारात्मक पाया जाता है तो हॉल में मौजूद सदस्यों को एक संदेश भेजा जाता है कि आप एक संक्रमित जगह पर थे।

CSIR के एक नए अध्ययन से हाल ही में पता चला है कि कोरोना संक्रमण एक हवा से होने वाला संक्रमण है। अध्ययन से पता चलता है कि कोरोना होने का खतरा पूरी तरह से सामाजिक दूरी और मास्क पहनने पर निर्भर करता है। वहीं, बंद घरों और अस्पतालों, जहां कई संक्रमित मरीज हैं। वहां हवा में संक्रमण होने की संभावना अधिक होती है। जिसकी जाँच के लिए इस डिवाइस को तैयार किया गया है।