आप भी करते है UPI का इस्तेमाल, तो यह Safety Tips बचाएगी नुकसान से ..

UPI, VPA और पिन कोड आधारित यह सरल प्रक्रिया होने से ये लेन दें का सबसे पसंदीदा तरीका बन गया है। लेकिन इन दिनों लगातार UPI ट्रांजैक्शन से जुड़े फ्रॉड के मामले भी बढ़ते जा रहे हैं। इसलिए अब आप सभी को भी यूपीआई से पेमेंट करते समय भी कुछ सावधानी जरूरी रखना चाहिए।

UPI Payment Safety Tips
UPI Payment Safety Tips

डेस्क रिपोर्ट, UPI (Unified Payment Interface) का इस्तेमाल इन दिनों अपने चरम पर है, कोई भी बड़ी पेमेंट की एप हो या पेमेंट गैट्वै हो, upi के द्वारा सभी पैसा एक खाते से दूसरे खाते मे आसानी से भेजा जा रहा है, सिर्फ एक छोटे से vpa और पिन कोड आधारित यह सरल प्रक्रिया होने से ये लेन दें का सबसे पसंदीदा तरीका बन गया है। लेकिन इन दिनों लगातार UPI ट्रांजैक्शन से जुड़े फ्रॉड के मामले भी बढ़ते जा रहे हैं। इसलिए अब आप सभी को भी यूपीआई से पेमेंट करते समय भी कुछ सावधानी जरूरी रखना चाहिए।

आइए आज आपको ऐसी ही कुछ आसान और महत्वपूर्ण UPI Safety Tips & Security Steps बताते है जिसकी मदद से आप UPI का उपयोग करते समय किसी भी प्रकार से फ्रॉड से आसानी से बच सकते हैं :

फर्जी ऐप से बचें –

किसी अनजान व्यक्ति से कॉल ये मेसेज के आधार पर कोई भी थर्ड पार्टी ऐप जैसे स्क्रीनशेयर, AnyDesk, टीमव्यूअर आदि डाउनलोड न करें। दरअसल, फ्रॉड करने वाला व्यक्ति बैंक या वॉलेट कंपनी के कर्मचारी होने का दावा करता है। लेकिन अनजान व्यक्ति के सुझाव या अनुरोध पर कभी भी कोई एप्लीकेशन/यूपीआई ऐप/पेमेंट वॉलेट डाउनलोड न करें। साथ ही गूगल, फेसबुक या ट्विटर पर कभी भी कोई हेल्पलाइन नंबर सर्च न करें।

यह भी पढ़ें – सावधान, आपकी गाड़ी में तो नहीं लगा नकली पार्ट्स, नकली इंजन आयल तो नहीं डाल रहे

पैसा मंगाने के लिए नहीं मांगा जाता है UPI पिन – 

बहुत ही जरूरी जानने वाली बात है की पैसे निकालने के लिए कभी भी अपना UPI पिन की आवश्यकता नहीं होती है, अगर कोई पैसा भेजने के नाम पर आपसे upi pin मांगे या एप पर ऐसा कुछ मांगा जाए तो उसे तत्काल बंद कर दें, पिन डालने से पैसे आने की वजह चले जाते है ।

QR कोड से धोखाधड़ी –

इन दिनों QR कोड की सहायता से भी लगातार ठगी के मामले देखे जा रहे हैं। इस दौरान किसी भी व्यक्ति से भुगतान लेने के लिए कभी भी QR कोड को स्कैन न करें। कभी भी अपना UPI वॉलेट पिन, कार्ड विवरण जैसे पिन, वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी), CVV, समाप्ति तिथि, ग्रिड वैल्यू, कार्ड का प्रकार (वीजा, मास्टरकार्ड, रुपे आदि) किसी भी व्यक्ति के साथ शेयर न करें।

सिम स्वैप –

अपराधी आपके नंबर की फर्जी सिम लेकर भी धोखाधड़ी भी कर सकते हैं। इससे बचने के लिए अनजान पतों से आए टेक्स्ट मैसेज, ईमेल का जवाब देते समय सावधानी रखें। खासकर किसी भी अनजान लिंक पर क्लिक करने से बचें।