अवैध उत्खनन में फंसे राजस्व मंत्री के भतीजे

सागर।

कमलनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री गोविंद सिंह राजपूत की मुश्किलें कम होने का नाम नही ले रही है। मंत्री पर आरोप लगने के बाद उनके भतीजे रंजीत सिंह पिता गुलाब  पर जमीन पर कब्जा और अवैध काला पत्थर उत्खनन के आरोप लगे है।इस मामले में खनिज विभाग ने उनके भतीजे के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच प्रतिवेदन एसडीएम को सौंपा है। 

दरअसल, मामला सागर जिले के बंडा में काले पत्थर के अवैध खनन से सम्बंधित है। बीते दिनों शिकायत मिलने के बाद कलेक्टर ने टीएल बैठक में रंजीत सिंह पिता गुलाब सिंह राजपूत निवासी जेरई के खिलाफ अवैध उत्खनन को लेकर जांच के आदेश दिए थे।इसके बाद एसडीएम जितेंद्र पटैल के आदेश पर खनिज निरीक्षक, राजस्व निरीक्षक, पटवारी की टीम बनाकर मौका मुआयना कराया गया। इसमें अवैध उत्खनन की बात स्पष्ट हुई है।जिसके बाद रंजीत पर मामला दर्ज कर जांच प्रतिवेदन एसडीएम को सौंपा गया है। जांच प्रतिवेदन में बताया गया कि शाहगढ़ तहसील के रतनपुर स्थित 0.92 हेक्टेयर भूमि मालिक जया ठाकुर है। लंबे समय से रंजीत सिंह पिता गुलाब सिंह राजपूत निवासी पोस्ट जेरई कब्जा कर इस पर अवैध उत्खनन कर रहे थे। 

मौके पर अवैध उत्खनन गड्ढे का नाप किया गया जिसकी लंबाई 37 मीटर, चौड़ाई 8.70 मीटर व गहराई 4 मीटर पाई गई। मौके पर 1.60 मीटर ओवर वर्डन पाया गया।इस हिसाब से 1287.6 घन मीटर खनिज पत्थर का अवैध उत्खनन पाया गया। जिसका प्रकरण भू- राजस्व संहिता की धारा 247 (7) के तहत दर्ज किया गया। 1287.6 घन मीटर के उत्खनन का मूल्य 5 लाख 15 हजार 40 रुपए आंका गया है। इसके हिसाब से उत्खनित खनिज के बाजार मूल्य का 4 गुना रुपए के हिसाब से 20 लाख साठ हजार एक साठ रुपए अनावेदक पर अर्थ दंड प्रस्तावित हुआ है।

बता दे कि जया ठाकुर मध्य प्रदेश महिला कांग्रेस की महासचिव है। जिन्होंने बीते दिनों राजपूत के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी। जिसमें कहा गया था कि  गोविंद सिंह मेरी जमीन पर अपने भतीजे के माध्यम से अवैध खनन करवा रहे हैं। मंत्री गोविन्द सिंह अपने रसूख का इस्तेमाल कर जमीन की घेराबंदी नहीं होने दे रहे हैं। याचिका में अवैध खनन पर रोक लगाने की मांग की गई है। 



"To get the latest news update download the app"