MP: रिजल्ट आया तो खिल उठे चेहरे, पढ़िए CBSE टॉपर्स की सक्सेस स्टोरी

भोपाल| जब मेहनत रंग लाती हैं, तो इसकी खुशी चेहरे पर साफ नजर आ जाती है। कुछ ऐसी खुशी उन स्टूडेंट्स के चेहरों पर तब नजर आई जब सीबीएसई 12वीं का परिणाम घोषित हुआ। अपनी सफलता को देख स्टूडेंट्स के चेहरे खुशी से खिल उठे और इसका उन्होंने जमकर जश्न मनाया। तो आईए जानें शहर के टॉपर बच्चों से बातचीत स्टूडेंट्स से उनकी इस कामयाबी का राज....


कंसिस्टेंसी को बनाया हथियार 

जब मेरे ग्यारहवीं के एग्जाम हुए थे तभी मैने बारहवीं की पढ़ाई शुरु कर दी थी हमेशा पढ़ाई के दौरान मैंने कंसिस्टेंसी बनाए रखी। शुरुआत में तो मैं दिन में तीन घंटे पढ़ाई करती थी बाद में मैंने पूरा पूरा दिन पढ़ाई की। अब आगे चलकर बीबीए करूंगी। 

-अपूर्वा टिलवानी, कॉमर्स, 96.2 


रोजाना 12 घंटे की पढ़ाई

मैं रोजाना करीब 12 घंटे पढ़ाई किया करता था क्लासेस में कंसेप्ट क्लीयर किए। एग्जाम से दो माह पहले रेगुलर तीन घंटे पढ़ाई की। शुरु से फिजिक्स पर फोकस किया। मैं अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता, अपनी मेहनत और टीचर्स को देती हूं। 

वरुण रमनानी, 94.4, पीसीएम 


अब करनी है सीए की तैयारी 

मुझे अकाउंटेंसी बहुत पसंद है यह एक अच्छा सब्जेक्ट है अब मैं सीए की तैयारी करूंगी। एग्जाम के दौरान मैंने दिन में करीब पांच से छ: घंटे पढ़ाई की। मुझे इस तरह के रिजल्ट की पूरी उम्मीद थी। पढ़ाई के दौरन मुझे हमेशा ही पैरेंट्स का सपोर्ट मिला। हमेशा खुद को रिलेक्स करके ही पढ़ाई की। 

त्रिशा अग्रवाल, 97.2, कॉमर्स


पढ़ाई का कोई समय तय नहीं 

मैं हमेशा से ही पढ़ाई का कोई समय नहीं बनाती या तो पूरा पूरा दिन या पूरी पूरी रात और इसी तरह से मैंने पढ़ाई भी की। मगर इस दौरान टीवी भी देखती थी, ताकि दिमाग सिर्फ एक ही जगह न लगे। अभी मैंने जेईई मेंस क्लियर किया है। आगे नीट के लिए भी तैयारी करूंगी। 

स्नेहा घोष दस्तीदार, 94 प्रतिशत, पीसीएम