फिर विवादों में घिरे सतना सांसद, अब आचार सहिंता उल्लंघन का लगा आरोप

सतना। मध्यप्रदेश के सतना जिले के सांसद गणेश सिंह एक बार फिर विवादों में घिर गए हैं। इस बार उन पर आचार सहिंता के उल्लंघन का आरोप लगा है। जिसे लेकर जिला कांग्रेस बीजेपी पर हमलावर हो गई है। हालांकि अभी तक निर्वाचन अधिकारी ने किसी भी तरह की शिकायत मिलने की बात नहीं कही है। 

जानकारी के मुताबिक सतना सांसद गणेश सिंह बुधवार को जिले के मैहर पहुंचे। यहां उन्होंने चोरी छुपे बाइपास के अंडरब्रिज का लोकार्पण कर दिया। मामला जैसे ही मीडिया में आया सांसद इधर उधर हो गए। कांग्रेस का आरोप है कि प्रदेश में आचार सहिंता लागू है ऐसे में बीजेपी सांसद द्वारा ऐसा करना सीधेतौर पर आचार सहिंता का उल्लंघन है। हालांकि, अब देखना होगा जिला निर्वाचन अधिकारी शिकायत मिलने के बाद क्या कार्रवाई करते हैं।

ये है मामला

बता दें कि, वर्षों से रीवा-कटनी के बीच नेशनल हाईवे-7 के चौड़ीकरण व उन्नयन का कार्य किया जा रहा है। पुल का कार्य पूर्ण होने पर बुधवार को बेहद-सादे समारोह के बीच अपने समर्थकों के साथ सांसद गणेश सिंह ने नारियल फोड़कर ब्रिज का उदघाटन किया। विधानसभा चुनाव 2018 की आचार संहिता के बीच सांसद द्वारा किया गया यह उदघाटन विवादों में फंस गया है। जैसे ही विपक्षी दल को उदघाटन की बात पता चली तो कांग्रेस भड़क गई। जिला कांग्रेस कमेटी के जिम्मेदारों ने कहा कि मैहर बाइपास पर बने रेलवे ओवर ब्रिज का उद्घाटन पूरी तरह गलत है। आचार संहिता के बीच पुल का उद्घाटन करने की शिकायत निर्वाचन आयोग से की जाएगी।

गौरतलब है कि प्रदेश में 6 इक्टूबर से आचार सहिंता लागू हो गई है। किसी भी तरह के सरकार काम काज का लाकार्पण और भूमि पूजन करने पर रोक लग चुकी है। बवजूद इसके नेता नियामों का उल्लंघन करने से बाज नहीं आ रहे हैं। राजधानी से लेकर प्रदेश भर में अभी तक आचार सहिंता उल्लंघन के 6 मामले सामने आचुके हैं।