चुनाव के लिए SP का 'फुटबॉल प्लान', गुंडे-बदमाशों को दिखाएंगे रेड, यलो और ग्रीन कार्ड

जबलपुर| एक तरफ जहां आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर सियासी दलों ने ऐड़ी चोटी का ज़ोर लगाना शुरु कर दिया है वहीं दूसरी तरफ पुलिस प्रशासन ने भी अपनी कमर कस ली है| जबलपुर में पुलिस ने तो शांतिपूर्ण चुनाव निपटाने के लिए फुटबॉल के खेल की तरह रणनीति बनाई है| जबलपुर एसपी अमित सिंह, शहर के बदमाशों के रेड, यलो और ग्रीन कार्ड बनवा रहे हैं | जिनमें उनकी पूरी कुण्डली रहेगी| 

एसपी का मानना है कि कार्ड सिस्टम से चुनाव निर्विघ्न निपटाने में खासी मदद मिलेगी। फुटबॉल के मैदान में आपने नियम तोड़ने वाले खिलाड़ियों को रैड और यलो कार्ड मिलते देखा होगा| लेकिन अब जबलपुर पुलिस बदमाशों को रैड, यलो और ग्रीन कार्ड दिखाने जा रही है|  पुलिस की कवायद उसकी चुनावी तैयारी का हिस्सा है जिसमें फुटबॉल के खेल की तरह रणनीति बनाई गई है| 

गुंडे, बदमाशों की बनेगी सूची 

आगामी विधानसभा चुनाव में बूथ कैप्चरिंग, वोटर्स को धमकाने या सर्मथकों के साथ उनपर दबाव बनाने की घटनाओं को रोकने के लिए जबलपुर पुलिस बदमाशों की एक अनोखी सूची बना रही है| इसके तहत जिले भर में विधानसभा वार रेड, यलो और ग्रीन कार्ड बनाए जा रहे हैं। जबलपुर एसपी अमित सिंह के निर्देश पर जिले के सभी थाना क्षेत्रों में साल 2008, 2009 और 2013 के चुनावों में खलल डालने वालों की सूची बनाई जा रही है और अपराध की गंभीरता के मुताबिक उन्हें रैड,यलो और ग्रीन कार्ड में कैटगराईज़ किया जा रहा है। 

रेड कार्ड: पहली सूची में शामिल लोगों को चेतावनी रहेगी कि चुनाव में बाधा डालने पर उनकी पूर्व की जमानतें रद्द करवाकर उन्हें जेल भिजवा दिया जाएगा| 

यलो कार्ड : इस सूची में ऐसे लोग शामिल होंगे जो चुनाव में समर्थकों को उकसाकर बाधा डाल सकते हैं, ऐसे लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जाएगी|

ग्रीन कार्ड : इस सूची में ऐसे लोगों को शामिल किया जाएगा जो किसी जनप्रतिनिधि के इशारे पर समूह में सक्रिय हो जाते हैं, ऐसे ग्रीन कार्ड धारियों पर पुलिस की चौबीस घंटे निगरानी रहेगी| 

जबलपुर एसपी अमित सिंह को भरोसा है कि उनका ये प्रयोग जिले में शांतिपूर्ण चुनाव करवाने में अहम शामिल होगा। दरअसल मिशन 2018 के लिए जिस अंदाज़ में सियासी दल और उनके कार्यकर्ता जोश दिखा रहे हैं उसके मुकाबले पुलिसिंग का भी अपग्रेड होना जरुरी था...हांलांकि देखना होगा कि जबलपुर पुलिस की ये फुटबॉली रणनीति चुनाव में क्या रंग लाती है।