दलितों को बारात से पहले देनी होगी पुलिस को सूचना, फरमान पर बवाल मचा तो कलेक्टर ने लिया एक्शन

उज्जैन । शादी से पहले दलितों को पुलिस को सूचना देने वाले एसडीएम के आदेश को विवाद होने के बाद आखिरकार निरस्त कर दिया गया| महिदपुर के SDM जगदीश गोमे ने आदेश जारी किया था कि कहा गया था अगर किसी शख्स को इस बात का डर है कि उसके विवाह समारोह में कोई दबंग विवाद कर सकता है तो वो 2 दिन पहले संबंधित पुलिस थाने में सूचना दें। इस आदेश के बाद विवाद की स्तिथि बन गई थी, कांग्रेस ने भी इसका विरोध किया था| नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा था शिवराज सरकार प्रदेश की जनता के लिए अंग्रेजों का कानून लागू कर रही है।   दलितों को अब बारात निकालने के लिए अनुमति लेना होगी ऐसा तो अंग्रेजों के राज में गुलामी के दौरान भी नहीं हुआ। एक ओर दलितों के घर रूकने और खाना-खाने का पाखंड भाजपा कर रही है दूसरी ओर इस तरह के आदेश निकाले जा रही है, जिससे उनका अपमान हो रहा है। 

दरअसल,  प्रशासन ने यह कदम बीते दिनों उज्जैन के नाग गुराडियां गांव में एक दलित दूल्हे को सवर्णों द्वारा घोड़ी से जबरन उतारे जाने की घटना को देखते हुए उठाया था|  माहिदपुर के सब डिविजनल मजिस्ट्रेट जगदीश गोमे ने एक सर्कुलर जारी कर सरपंचों और पंचायत सचिवों को दलितों के घर होने वाली शादियों को लेकर सतर्क रहने के लिए कहा | SDM ने अपने इस फरमान के पीछे दुल्हे और बारात को सुरक्षा मुहैया कराने का तर्क दिया। अधिकारियों ने सभी सरपंचों व सचिवों को जारी कर दिए थे।  लेकिन ये आदेश दलित समाज के लिए विशेष रुप से जारी करने के बाद विवाद की स्थिति बन गई। दलित समाज और अन्य पिछले समाज इसके विरोध में उतर आए। स्थिति देखते हुए नवागत कलेक्टर मनीष सिंह ने तत्काल SDM को तलब किया और आदेश को निरस्त कर दिया।  

शिव'राज' में सुनियोजित रूप से दलितों को अपमानित किया जा रहा : अजय सिंह 

 नेता प्रतिपक्ष श्री सिंह ने उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा दलितों को बारात निकालने के पहले सूचना देने और अनुमति लेने के आदेश को, प्रदेश के सामाजिक समरसता के वातावरण के लिए कलंक बताया। श्री सिंह ने कहा कि शिवराज में सुनियोजित रूप से दलितों को अपमानित किया जा रहा है। हाल ही में धार में आदिवासी एवं दलित नौजवानों की छाती पर जातिसूचक शब्द लिखे गए, फिर एक ही कमरे में महिला पुरूष का मेडिकल किया गया। यह घटनाएं बताती है कि शिवराज सरकार किस तरह दोयम दर्जे का व्यवहार अपने प्रदेश के नागरिकों के साथ कर रही है। प्रदेश में दलित शिव-राज में सुरक्षित नहीं हैं, यह आदेश इसकी पुष्टि करता है|  नेता प्रतिपक्ष श्री सिंह ने कहा कि इसके पूर्व केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती ने दलित परिवार के घर खाना खाने से इंकार कर दिया था, वहीं भाजपा दलित के घर रूकने और खाना खाने का पाखंड कर रही है। नेता प्रतिपक्ष श्री सिंह ने कहा कि यहीं भाजपा का असली चाल-चरित्र चेहरा और दोमुही नीति है।