बैतूल: पीला तरबूज!? अलग किस्म की स्वादिष्ट वैरायटी, खूब हो रही चर्चा, दूर-दूर से आ रहे ग्राहक

इस बार आपको बैतूल में एक विशेष तरह का स्वादिष्ट तरबूज खाने मिलेगा जो बाहर से तो हरा है पर काटने पर अंदर से पीले रंग का है। बैतूल के किसान अनिल वर्मा ने अपने खेत मे विशेष तरह के तरबूज उगाए हैं जो कि तरबूज की अन्य किस्मों से काफी अलग है।

बैतूल

बैतूल, वाजिद खान। बैतूल (betul) में तरबूज (watermelon) की एक नई वैरायटी (variety) मार्केट में आ गई है जो साधारण तरबूज जैसे ही दिखाई देती है मतलब उसका ऊपरी भाग हरा होता है लेकिन काटने पर यह अंदर से लाल नहीं बल्कि पीला (yellow watermelon) होता है। यह अंदर से काफी-कुछ अनानास जैसा दिखता है और इसका स्वाद भी बेहद मीठा (sweet) होता है। आपको बता दें कि मध्य प्रदेश (madhya pradesh) के बैतूल में इन दिनों पीले तरबूज की बहार है। गर्मियों के मौसम में तरबूज खाने का अपना अलग ही मजा होता है। इस बार आपको बैतूल में एक विशेष तरह का स्वादिष्ट तरबूज खाने मिलेगा जो बाहर से तो हरा है पर काटने पर अंदर से पीले रंग का है। बैतूल के किसान अनिल वर्मा ने अपने खेत मे विशेष तरह के तरबूज उगाए हैं जो कि तरबूज की अन्य किस्मों से काफी अलग है। पहली किस्म लाल एवं अत्यधिक मिठास से भरी हुई है और दूसरी पीली और अनानास के स्वाद की मिठास से भरी हुई है।

बैतूल: पीला तरबूज!? अलग किस्म की स्वादिष्ट वैरायटी, खूब हो रही चर्चा, दूर-दूर से आ रहे ग्राहक

यह भी पढ़ें… MP Politics: BJP दिग्गजों की बैठक के क्या हैं सियासी मायने! विपक्ष के कान खड़े

दरअसल बैतूल में पिछले साल से पीले तरबूज की खेती हो रही है। किसान अनिल वर्मा का कहना है कि उनका खेत बैतूल में है उन्होंने उसमें तरबूज लगाया है।  जिसमे अलग अलग वैरायटी उपलब्ध है जिनमें ऊपर से हरा और अंदर से पीला वाला तरबूज विशेष है और इसका स्वाद भी लाजवाब है।

बैतूल

वैसे अनिल ने अपने खेत में और भी वैरायटी के तरबूज उगाए है जिनमे आरोही के साथ सरस्वती भी है। सरस्वती अंदर से लाल होता है।

यह भी पढ़ें… प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधने का दिग्विजय का अलग अंदाज, वीडियो पोस्ट कर लिखा- जरूर सुनें

अनिल वर्मा बताते हैं कि पीले तरबूज को कम जगह में लगाया था लेकिन जब लोगों को पता चला तो इसकी डिमांड बढ़ गई है और देखने के लिए भी बहुत लोग आ रहे है। फिलहाल यलो वाटरमेलन लोगो की पसंद बन गया है। और इस बात से आप अंदाज लगा सकते है कि इस तरबूज की लोकप्रियता देखते ही देखते कितनी बढ़ गई है। लोग इस तरबूज की तारीफ करते नहीं थक रहे है।