लॉकडाउन पर भारी कोरोना: MP में 2276 नए केस, 11 की मौत, इन जिलों में हालात गंभीर

पूर्व मुख्यमंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। रविवार टोटल लॉकडाउन (Lockdown 2021) के बावजूद मध्य प्रदेश (MP) में कोरोना संक्रमितों (Coronavirus) के आंकड़ों में कोई कमी नही आ रही है। दिनों दिन मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है और मौत का आंकड़ा भी बढ़ रहा है। पिछले 24 घंटे में 2276 नए कोरोना पॉजिटिव सामने आए है और 11 की मौत हो गई।इन आंकड़ों के बाद MP में एक्टिव मरीजों की संख्या 14,185 हो गई है।

यह भी पढ़े.. MPPSC: लॉकडाउन के बीच 11 अप्रैल को होगी प्रारंभिक परीक्षा, 67 केंद्र बनाए गए

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 24 घंटे में मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में 2276 नए केस सामने आए है, इसमें एक बार फिर भोपाल में आंकड़ा 400 पार यानि 498 और  इंदौर में आंकड़ा 600 पार यानि 603  नए केस मिले है।वही भोपाल और छिंदवाड़ा में एक-एक, इंदौर और जबलपुर में दो-दो मरीजों समेत कुल 11  की मौत हो गई।

वही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan)ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए MP  की जनता से होली तथा अन्य त्यौहारों पर संयम और अनुशासन बनाए रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि मैं स्वयं भी प्रतिवर्ष उत्साह से सभी लोगों के साथ होली मनाता था। इस वर्ष कोरोना के संक्रमण को देखते हुए मैंने “मेरी होली-मेरे घर” का पालन करते हुए परिवार के साथ ही होली मनाने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़े.. MP College Exam 2021: मई-जून में होगी कॉलेज की परीक्षाएं, ऑफलाइन देना होगा पेपर

बता दे कि MP सरकार के निर्देश के बाद 11 जिलों के 12 शहरों में इंदौर, भोपाल, जबलपुर, बैतूल, रतलाम, छिन्दवाड़ा, खरगोन ,ग्वालियर, उज्जैन, विदिशा, नरसिंहपुर, सौंसर जिले में आगामी आदेश तक प्रत्येक रविवार को टोटल लॉकडाउन लगाया गया है जो शनिवार रात्रि 10 बजे से सोमवार प्रात: 6 बजे तक प्रभावी रहेगा।

गौरतलब है कि प्रदेश में कोरोना तेजी से फैल रहा है। भोपाल, इन्दौर, जबलपुर, उज्जैन, ग्वालियर, बैतूल, छिंदवाड़ा, बालाघाट, खरगोन, रतलाम, खंडवा और विदिशा में प्रकरण बढ़ रहे हैं। इसे रोकने के लिए सावधानी, सतर्कता और अनुशासन की जरूरत है। राज्य शासन कोरोना संक्रमण को रोकने और प्रभावितों के इलाज के लिए पूरी तरह से तैयार है। पीपीई किट जैसी सभी जरूरी सामग्री, ऑक्सीजन, पर्याप्त आवश्यक बैड उपलब्ध हैं। शासकीय के साथ-साथ निजी अस्पतालों (Government/Private Hospital) का भी इस लड़ाई में सहयोग लिया जा रहा है। निजी अस्पतालों की दरें तय कर दी गईं हैं।