विस अध्यक्ष गिरीश गौतम को मिला सरकारी आवास, पूर्व अध्यक्ष से वापस मांगे गए सामान

ऐसी स्थिति में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति को सामग्री वापस करने के लिए पत्र लिखा गया है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के विधानसभा अध्यक्ष (Speaker of Madhya Pradesh Legislative Assembly) गिरीश गौतम (Girish Gautam) को शासकीय आवास आवंटित करवाया गया है। इसके साथ ही पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति (N P Prajapati) से सचिवालय द्वारा उपलब्ध कराए गए सामान की मांग की गई है। मामले में सचिवालय ने एनपी प्रजापति को पत्र लिखा है।

दरअसल पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति द्वारा विधानसभा सचिवालय (Assembly Secretariat) से मिले कुछ सामग्री अभी भी राजधानी परियोजना प्रशासन को मिलना बाकी है। इसके लिए उन्हें पत्र लिखा गया है। मामले में विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह (AP Singh) का कहना कि प्रजापति अब अध्यक्ष नहीं है लेकिन विधायक (MLAs) हैं। इस अनुसार उन्हें पात्रता अनुसार सामग्री उपलब्ध करवाई जाएगी लेकिन उसे छोड़कर अध्यक्ष होने की वजह से जो सामग्री उपलब्ध कराए गए थे। वह उन्हें वापस देना होगा।

ए पी सिंह ने बताया कि इस मामले में कई बार उन्हें पहले भी पत्र लिखे जा चुके हैं। बता दें कि विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम को शासकीय आवास B-7, 74 बंगला क्षेत्र में आवंटित करवाए गए हैं। इसके लिए उन्हें सामग्री उपलब्ध करानी होगी।

Read More: कमलनाथ पर भड़के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, बोले – ‘नीयत में खोट-निगाह में वोट’ कांग्रेस की प्रवृत्ति

ऐसी स्थिति में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति को सामग्री वापस करने के लिए पत्र लिखा गया है। बता दे कि नियम अनुसार अध्यक्ष को विधानसभा और राजधानी परियोजना प्रशासन की ओर से आवास के साथ कुछ तरह की सामग्री उपलब्ध कराई जाती है। इसमें आवास स्थित कार्यालय के लिए कंप्यूटर से लेकर घरेलू सामान तक उपलब्ध होते हैं लेकिन जैसे ही अध्यक्ष विधायक का कार्यकाल समाप्त होता है। सामग्री भंडार शाखा में जमा करवा दी जाती है। जिसके बाद ही अनापत्ति मिलने के बाद पेंशन बनने की प्रक्रिया शुरू होती है।

विधानसभा के प्रमुख सचिव ए पी सिंह ने कहा है कि पूर्व विधानसभा अध्यक्ष प्रजापति ने अधिकांश समय वापस कर दिए हैं लेकिन कुछ चीजें रह गई है। जो उन्हें वापस करना होगा। इस संबंध में उनसे पहले भी चर्चा की जा चुकी है और अब वर्तमान विधानसभा अध्यक्ष के आवंटित बंगले में सामग्री उपलब्ध कराने के लिए उन्हें फिर से एक बार सामान वापस करने के लिए पत्र लिखा गया है।