आयुष्मान कार्ड धारक को नहीं मिला फ्री में इलाज, स्वास्थ्य विभाग ने मारा छापा

के एम हॉस्पिटल के एमडी सतीश कुमार धाकड़ ने कहा कि रात को एक मरीज भर्ती हुआ था उस पर आयुष्मान कार्ड था लेकिन जहाँ तक आयुष्मान कार्ड से मुफ्त इलाज की बात है तो हमारे पास किसी तरह का लिखित आदेश नहीं है

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। शिवराज सरकार ने आयुष्मान कार्ड (Ayushman Card) धारकों के लिए निजी अस्पतालों में कोरोना के मुफ्त इलाज की घोषणा की है लेकिन ग्वालियर के कुछ अस्पताल सरकार के इस आदेश को नहीं मान रहे।  वे आयुष्मान कार्ड (Ayushman Card) धारक से भी इलाज के बदले मोटी रकम वसूल रहे हैं। एक मरीज की ऐसी ही शिकायत पर स्वाथ्य विभाग की टीम ने के एम हॉस्पिटल (KM Hospital) पर छापामार कार्रवाई की है।

ये भी पढ़ें – अभिनेता सोनू सूद ने शिवपुरी पुलिस अधीक्षक को किया फोन, मांगी मदद

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निजी अस्पतालों को आयुष्मान कार्ड (Ayushman Card) धारकों के कोरोना (Corona) का मुफ्त इलाज करने के निर्देश दिए हैं बावजूद इसके कुछ अस्पताल सरकार के इस आदेश को नहीं मान रहे। ग्वालियर में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया है। एक मरीज ने सीएमएचओ कार्यालय (CMHO Office) में शिकायत की कि उसके पास आयुष्मान कार्ड (Ayushman Card) होने के बाद भी अस्पताल ने उसका मुफ्त में इलाज नहीं किया बल्कि मोटी रकम ले ली।

आयुष्मान कार्ड धारक को नहीं मिला फ्री में इलाज, स्वास्थ्य विभाग ने मारा छापा

आयुष्मान कार्ड धारक को नहीं मिला फ्री में इलाज, स्वास्थ्य विभाग ने मारा छापा

मरीज की शिकायत के बाद सीएमएचओ ऑफिस (CMHO Office) ने के एम हॉस्पिटल (KM Hospital) पर छापामार कार्रवाई की। सीएमएचओ कार्यालय से गए स्टाफ ने बताया कि शिकायत के आधार पर जांच की जा रही है। उधर के एम हॉस्पिटल के एमडी सतीश कुमार धाकड़ ने कहा कि रात को एक मरीज भर्ती हुआ था उस पर आयुष्मान कार्ड (Ayushman Card) था लेकिन जहाँ तक आयुष्मान कार्ड (Ayushman Card) से मुफ्त इलाज की बात है तो हमारे पास किसी तरह का लिखित आदेश नहीं है केवल ग्रुप में ही जानकारी मिली थी।  मैं सीएमएचओ ऑफिस पता लगाने ही जा रहा था तब तक सीएमएचओ की टीम ही आ गई।