उच्च शिक्षा विभाग

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश(Madhya pradesh) में कोरोना(corona) संक्रमण को देखते हुए सभी कॉलेजों(colleges) द्वारा विद्यार्थियों को जनरल प्रोमोशन(general promotion) दिया गया था। जिसकी प्रक्रिया अगले महीने से शुरू हो जाएगी। उच्च शिक्षा विभाग(Higher Education Department) ने इसके लिए तैयारियां कर ली है। जिसके तहत विद्यार्थियों को प्रमोट बॉक्स(promote box) से अगली कक्षा में प्रवेश किया जाएगा।

दरअसल प्रमोट बॉक्स के जरिए विद्यार्थियों की अहर्ता का परीक्षण करते हुए स्नातक के प्रथम, द्वितीय और स्नातकोत्तर के तृतीय सेमेस्टर के छात्रों को पोर्टल पर उपलब्ध प्रोमोट बॉक्स पर क्लिक करते ही नई कक्षा में प्रवेश मिल जाएगा। उच्च शिक्षा विभाग के ओएसडी धीरेंद्र शुक्ल ने बताया कि प्रदेश से बाहर रह रहे विद्यार्थियों को प्रदेश के लिए माइग्रेशन प्रमाण पत्र एवं अन्य संबंधित कागजात कॉलेज का ऑनलाइन भेजना होगा। जिसके बाद कॉलेज ई-प्रवेश पोर्टल पर दिए गए आवेदन में आवेदक विद्यार्थी की प्रविष्टि करेंगे। इसके साथ ही फीस के लिंक भी जारी की जाएगी।

ये भी पढ़े: कॉलेजों को लेकर सरकार का प्लान, इस बार छुट्टियां कम और सत्र देर से

पोर्टल कैसे करेगा काम

स्नातक द्वितीय और तृतीय वर्ष में दाखिला लेने वाले विद्यार्थियों को ई-प्रवेश पोर्टल पर लॉगिन आईडी(Login ID) से प्रवेश मिलेगा। कॉलेज की प्रवेश समिति ई-प्रवेश पोर्टल पर विद्यार्थियों का नामांकन क्रमांक दर्ज करेगी। जिसके बाद पोर्टल पर अपनी लॉगिन आईडी से प्रवेश करते ही आवेदक के रूप में विवरण पोर्टल पर प्रदर्शित होने लगेगा। इसके बाद विद्यार्थियों को कॉलेज द्वारा ऑनलाइन सत्यापन करवाने के बाद प्रवेश शुल्क और पोर्टल शुरू के साथ लिंक जारी किया जाएगा। वही द्वितीय और तृतीय वर्ष में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को ई-प्रवेश पोर्टल पर लॉगिन आईडी से प्रवेश शुल्क की प्रथम किस्त के रूप में 500 रूपए जमा करने होंगे।

अधिकारियों का कहना है कि ई-प्रवेश पोर्टल में फीस जमा करने के बाद विद्यार्थियों को प्रिंटआउट अपने पास रखना होगा। वही कॉलेज शुरू होते ही अन्य दस्तावेजों के साथ कॉलेज में ई-प्रवेश पोर्टल की फीस के कागजात का सत्यापन करवाना जरूरी होगा। कोरोना काल में विद्यार्थियों को परेशानी का सामना ना करना पड़े। इसके लिए उच्च शिक्षा विभाग ने छात्रों को यह सुविधा दी है। वही छात्रों को प्रमोट करने की प्रक्रिया नवंबर तक पूरी की जाएगी।