Maharashtra Politics: सड़कों पर उतरी BJP, गृह मंत्री अनिल देशमुख से मांगा इस्तीफा

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखी चिट्ठी में NCP नेता एवं महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा गया है कि वे गिरफ्तार पुलिस अधिकारी सचिन वझे से हर महीने 100 करोड़ रुपये की मांग कर रहे थे

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मुंबई के पूर्व पुलिस प्रमुख यानि पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (Parambir Singh) द्वारा गृह मंत्री अनिल देशमुख (Home Minister Anil Deshmukh) पर लगाए गए 100 करोड़ रुपये मांगने के गंभीर आरोपों के बाद महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) की सियासत में भूचाल आ गया है और गृह मंत्री अनिल देशमुख (Home Minister Anil Deshmukh) के इस्तीफे की मांग जोर पकड़ने लगी है।  भारतीय जनता पार्टी (BJP) गृह मंत्री अनिल देशमुख (Home Minister Anil Deshmukh) के इस्तीफे की मांग  करते हुए इस समय महाराष्ट्र की सड़कों पर प्रदर्शन कर रही है।

ये भी पढ़ें – Accident: प्रतिबंध के बाद भी MP सीमा में घुसी महाराष्ट्र की बस, ट्रक से भिड़ंत में 8 यात्री घायल

मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर एंटीलिया (Antilia) मामले की जाँच के बीच पद से हटाए गए मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (Parambir Singh) द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) को लिखी चिट्ठी में NCP नेता एवं महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Home Minister Anil Deshmukh)पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा गया है कि वे गिरफ्तार पुलिस अधिकारी सचिन वझे (Sachin Vaze)  से हर महीने 100 करोड़ रुपये की मांग कर रहे थे।  चिट्ठी में कहा गया है कि  ऐसी ही मांग गृह मंत्री अनिल देशमुख  द्वारा एक अन्य पुलिस अधिकारी संजय पाटील से भी की गई थी। परमबीर सिंह का लेटर बम फूटने के बाद शिवसेना, NCP और कांग्रेस की गठबंधन वाली महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर सियासी संकट आ गया।

हालाँकि पूरे मामले पर NCP प्रमुख शरद पवार ने कहा है परमबीर सिंह की चिट्ठी मिली है लेकिन उस पर साइन नहीं है। कमिश्नर रहते हुए उन्होंने कोई आरोप नहीं लगाया। गृह मंत्री अनिल देशमुख पर लगाए गए आरोप गंभीर हैं लेकिन इनके प्रमाण नहीं है। मुख्यमंत्री को इस मामले में फैसला लेने का पूरा अधिकार है। सरकार पर कोई असर नही। शारद पवार  ने कहा कि  अनिल देशमुख को इस्तीफा देना है या नहीं देना है यह फैसला सीएम लेंगे। विपक्ष का काम सरकार पर आरोप लगाना है।  उधर गृह मंत्री अनिल देशमुख ने भी पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के आरोपों को झूठे और महाराष्ट्र सरकार को बदनाम करने की साजिश बताया।

 

उधर महाराष्ट्र में मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने शिवसेना सरकार के खिलाफ मोर्च खोल दिया।  महाराष्ट्र भाजपा (BJP) के नेता, पदाधिकारी और कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आये हैं और गृह मंत्री अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।  महाराष्ट्र के मुंबई, पूना सहित सभी बड़े शहरों में भारतीय जनता पार्टी सड़कों पर प्रदर्शन कर रही है।