ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर में 15 अप्रैल से 7 दिन का कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) लगाए जाने के फैसले का विरोध शुरू हो गया है। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में हुए कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) के फैसले की जानकारी जैसे ही व्यापारियों को मिली सब इकठ्ठा होकर चेंबर ऑफ़ कॉमर्स पहुँच गए। शहर के बाजारों के व्यापारियों ने चैंबर ऑफ़ कॉमर्स के पदाधिकारियों से कहा कि व्यापारियों को भरोसे में लिए बिना कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) लगाने का फैसला उन्हें स्वीकार नहीं है।

ग्वालियर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए मंगलवार को जिला प्रशासन ने क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ बैठक कर फैसला किया कि 15 अप्रैल सुबह 6 बजे से 7 दिन के लिए ग्वालियर में कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) लगाया जाएगा। कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) की खबर लगते ही शहर के व्यापारी उसके खिलाफ आवाज बुलंद करते हुए चेंबर ऑफ कॉमर्स पहुँच गए। कुछ ही देर में चेंबर ऑफ कॉमर्स में ग्वालियर के अलग-अलग बाजारों के सैकड़ों व्यापारी इकठ्ठा हो गए।

ये भी पढ़ें – ग्वालियर में 15 अप्रैल से 7 दिन के लिए कोरोना कर्फ्यू, प्रशासन ने मांगा जनता से सहयोग

व्यापारियों ने एक सिरे से कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) को नकार दिया। चैंबर ऑफ कॉमर्स भी व्यापारियों के साथ खड़ा हो गया।  चैंबर ऑफ़ कॉमर्स के पदाधिकारियों का कहना है कि व्यापारियों को भरोसे में लिए बगैर क्राइसिस मैनेंजमेंट ग्रुप की बैठक में 7 दिनों का कर्फ्यू (Corona Curfew) लगा दिया गया है। जबकि ये शादियों का सीजन है, पिछली बार भी व्यापारी कोरोना में पिसा था। इस बार भी वहीं हालत पैदा हो रहे है।

ये भी पढ़ें – कोचिंग बंद किये जाने का विरोध, सरकार से सवाल क्या दमोह में नहीं है कोरोना?

उधर शहर के अलग-अलग बाजारों से आये व्यापारियों का कहना था की अगर यही हालत रहे है, तो कई छोटे व्यापारी आत्मघाती कदम उठा सकते हैं।  चैंबर ऑफ़ कॉमर्स के मानसेवी सचिव डॉ प्रवीण अग्रवाल (Dr Praveen Agrawal) का कहना है कि कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह से बात की गई है कल बुधवार को दोपहर 12 बजे कलेक्टर से मुलाकात होगी। उसके बाद व्यापारी अपनी अगली रणनीति बनाएंगे।