Supreme-Court-of-India

भोपाल,  डेस्क रिपोर्ट। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने आज कक्षा 12 के मूल्यांकन मानदंड या अंतिम रणनीति जारी की। जिसके माध्यम से वह कक्षा 12 के परिणाम का छात्रों का आकलन करेगा। कक्षा 12 का परिणाम बोर्ड परीक्षा में सर्वश्रेष्ठ तीन प्रदर्शन करने वाले विषयों के आधार पर किया जायेगा। कक्षा 12 के मूल्यांकन कक्षा 10 के परिणाम (30 %) पर, कक्षा 11 का परिणाम (30 %) पर जबकि कक्षा 12 के परिणाम (40 %) Unit Test / Mid-Term / Pre Board के आधार पर होगा। यह जानकारी CBSE ने उच्चतम न्यायलय (SC) में दी है।

कक्षा 12 परिणाम योजना पर आधारित होगी बोर्ड परीक्षा (board exam)  में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले 3 विषयों के आधार पर कक्षा 10 के परिणाम का 30 प्रतिशत, कक्षा 11 के परिणाम का 30 प्रतिशत, कक्षा 12 के यूनिट टेस्ट/मध्यावधि-प्री-बोर्ड के आधार पर परिणाम का 40 प्रतिशत अंतिम परीक्षा पर आधारित होगा।

Read More: MP News: किल कोरोना- मंत्री जी के बंगले पर अब बिना वैक्सीन No Entry

एजी केके वेणुगोपाल ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि जहां तक ​​12वीं कक्षा के लिए अंतिम अंक देने का संबंध है। सभी छात्रों को रखने के लिए विभिन्न स्कूलों द्वारा अपनाई गई मार्किंग मैकेनिज्म में अंतर को देखने के लिए एक मॉडरेशन कमेटी बनाई जाएगी। अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने पीठ को बताया कि 31 जुलाई 2021 तक परिणामों की घोषणा कर दी जाएगी।

CBSE और CICSE की कक्षा 12 की परीक्षाओं को रद्द करने के निर्देश की मांग वाली याचिकाओं पर सुनवाई की जानकारी बताते हुए अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने बताया कि CBSE के जो छात्र मूल्यांकन फॉर्मूले से संतुष्ट नहीं हैं,  उन्हें स्थिति अनुकूल होने पर कक्षा 12 की परीक्षा देने का अवसर दिया जायेगा।