मुख्यमंत्री शिवराज सिंह बोले- आजकल अपन तूफानी है, जहां गड़बड़ हो, वहां तोड़ दो

शिवराज सिंह यही नही रुके उन्होंने आगे कहा कि मैं किसानों को दोनों हाथ जोड़कर शीश झुका कर प्रणाम करता हूं, लेकिन उन्हें तकलीफ होती है।

शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) का बड़ा बयान सामने आया है।शिवराज का कहना है कि किसान (Farmers) हमारे भगवान और हम जनता के पुजारी है। उनकी सेवा हमारे लिए भगवान की पूजा है, लेकिन कांग्रेसियों सुन लेना कमलनाथ हो या बाकी चाहे जो हो। सज्जनों के लिए हम फूल से ज्यादा कोमल हैं लेकिन दुष्टों के लिए वज्र से ज्यादा कठोर है, इसलिए मैंने कहा आजकल अपन तूफानी है, जहां गड़बड़ हो वहां तोड़ दो।

यह भी पढ़े..MP Weather Update – मध्यप्रदेश के इन जिलों में बारिश के आसार, जनवरी में रहेगा कोल्ड डे

शिवराज सिंह यही नही रुके उन्होंने आगे कहा कि मैं किसानों को दोनों हाथ जोड़कर शीश झुका कर प्रणाम करता हूं, लेकिन उन्हें तकलीफ होती है। मैं उनको कहना चाहता हूं। ये भारतीय जनता पार्टी (BJP) है। भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता मैं हूं। किसानों के सामने एक नहीं हजार बार घुटने टेकूंगा, प्रणाम करूंगा, नमन करूंगा।

यह भी पढ़े..Shivraj Cabinet – शिवराज कैबिनेट बैठक सम्पन्न, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर

शिवराज ने कहा कि देश के कल्याण के लिए देश की प्रगति और विकास के लिए और किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए एक नहीं अनेकों कड़े फैसले लिए गए हैं, हिम्मत के साथ लिए गए हैं, लेकिन आज वो लोग विरोध कर रहे हैं जिन्होंने सरेआम किसानो को ठगा है, लेकिन घबराना मत मेरे किसान भाईयो ये भाजपा की सरकार है, किसान विरोधियो ने जो कर्ज की गठरी तुम्हारे सिर पर रखी है ये गठरी भाजपा और शिवराज सिंह की सरकार उतारेगी। ये हमारा संकल्प है।

कमलनाथ तुमने किसानों को क्या दिया

वही कमलनाथ के ट्वीट को लेकर कहा कि कमलनाथ (Kamal Nath) जी ट्वीट करते हैं, कि शिवराज सिंह चौहान चौपाल लगा रहे हैं। अरे कमलनाथ जी तुमने किसानो को क्या दे दिया था?आपने तो कहा था कर्ज माफ़ कर दूंगा और ये बात आपने ही नहीं कही थी आपके युवराज तो गिनती गिन गिन कर बोलते थे 10 दिन में कर्ज माफ़ कर दूंगा। तुमने तो कर्ज माफ़ी के चक्कर में रेगुलर डिफाल्टर कर दिया किसानों को। हम जीरो परसेंट ब्याज पर कर्ज देते थे, पर देते थे तुमने 14% पंहुचा दिया।

शिवराज ने बताया कैसी है भाजपा

शिवराज ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार कैसी है अगर तुकबंदी में कहूं तो हर बच्चे की पढ़ाई, हर बीमार को दवाई, हर खेत को सिंचाई, हर गरीब मजदूर की भलाई, हर युवा के हाथ में कमाई, हर नारी नारायणी कहलाई, गांव शहर घर घर में सफाई, ना कोई ढोंग ना कोई दिलाई, गुंडों की ठुकाई।

कांग्रेस और विपक्ष को घेरा

शिवराज ने विपक्ष को घेरते हुए कहा कि मैदान में मोदी जी का मुकाबला नहीं हो सकता, इसलिए गाली दे रहे हो। जहां देखो वहां हारते जा रहे हो, मैदान साफ होता जा रहा है। किसानों के नाम पर मोदी को गाली दे रहे हो।यह नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) जी हैं, जिन्होंने किसानो के कल्याण के लिए लॉग टाइम प्लानिंग की, अल्पकालीन योजना भी बनाई, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि जैसी।जिन्होंने उत्पादन की लागत घटे इसके लिए अच्छे बीज, स्वाइल हेल्थ-कार्ड बनवाए, उत्पादन बढ़े इसके लिए सिंचाई की बेहतर व्यवस्था की। लागत घटाने के इंतजाम किए।किसानों को उत्पादन का ठीक दाम मिले, इसकी कोशिश की और किसानों के नुकसान की भरवाई हो जाए इसके लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना बनाई।

मीडिया वालों यह भी दिखाना

शिवराज ने आगे कहा कि मिडिया के मित्रों किसान खड़े होकर समर्थन कर रहे हैं।जब 20 किसान खड़े हो कर विरोध करते हैं तो आप लोग दिखाते हो, आज यहाँ 50 किसान समर्थन में खड़े हैं ये जरूर दिखाना।

राहुल से पूछा सवाल

कांग्रेस ने तो धेला नहीं दिया, किसान कानूनों का विरोध कर रहे हैं मुझे कहते हो किसान विरोधी।कांग्रेसियों राहुल गांधी (Rahul Gandhi) तुमसे भी पूछना चाहता हूं। ये 2200 करोड़ रूपया फसल बीमा योजना के दादा कमलनाथ खा गए। सरेआम कह रहा हूं मीडिया के सामने कह रहा हूं। जब मैं मुख्यमंत्री बना फाइल खोली तब पता चला दादा ने प्रीमियम का ही पैसा जमा नहीं किया। 22 सौ करोड़ जमा नहीं हुए तो 31 सौ करोड़ किसान को मिले ही नहीं।

जब खजाना खाली था तब

शिवराज ने कहा कि कोरोना काल में जब खजाना खाली था, टैक्स नहीं आ रहा था उस काल में भी 2200 करोड़ रुपया निकाल कर 3100 रुपया डालने वाली ये भाजपा की सरकार है। तो क्या हम किसान विरोधी हैं कमलनाथ जी। और केवल इतना ही नहीं 2019- 20 का फसल बीमा योजना (Crop Insurance Policy) का प्रीमियम नही मिला था वो पैसा भी 4800 करोड़ रूपये किसानों के खाते में डाले तो शिवराज सिंह चौहान और भाजपा की सरकार ने डाले, नरेंद्र मोदी जी के आशीर्वाद से डाले।तुम किसान समर्थक हो गए हम किसान विरोधी हो गए वाह रे कांग्रेसियों आज किसान कानूनों (Farms Bill 2020) का विरोध (Farmers Protest) कर रहे हो।

शिवराज पूछता है तुमसे कहां गया पैसा

शिवराज ने कहा कि हम जीरों पर्सेंट ब्याज पर कर्जा देते थे इन्होंने 0% का कर्जा साथ ही कर दिया। हम विरोधी हो गए तुम किसान समर्थक हो गए।पिछली साल का फसल के खराब होने का राहत की राशि का पैसा देना था । किसान कानूनों का विरोध करने वालों आज शिवराज सिंह चौहान पूछता है तुमसे कहां गया वह पैसा ..? राहत की राशि ही खा गए और हमें कह रहे हैं किसान विरोधी । राहुल गांधी जी ने तो कर्जमाफी (Debt waiver) के ही फर्जी प्रमाण पत्र बांट दिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने फैसला किया किसान सम्मान निधि का ₹6000 हर किसान के खाते में आएंगे तुम्हारा क्या लगता था।सूची तो भेज देते कमलनाथ जी, आपकी सरकार ने पूरे किसानों की सूची तक नहीं भेजी