शिवराज सिंह चौहान का बड़ा फैसला- बुधवार से भोपाल और इंदौर में नाइट कर्फ्यू

माना जा रहा है कि जिन जिलों में संक्रमण की रफ्तार तेज है। वहां मरीजों के लिए सख्त गाइडलाइन तैयार किए जा सकते हैं। वही ऐसे जिलों में कर्फ्यू या लॉकडाउन भी घोषणा की जा सकती है।

शिवरज सरकार

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में कोरोना (corona) के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan)ने बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत बुधवार रात से भोपाल इंदौर में नाईट कर्फ्यू लगाया जाएगा। वहीं 8 शहरों जबलपुर, ग्वालियर, उज्जैन, रतलाम, छिंदवाड़ा, बुरहानपुर, बैतूल, खरगोन में रात्रि 10 बजे के बाद बाजार बंद रहेगा। इन शहरों में कर्फ्यू जैसी स्थिति नहीं रहेगी, लेकिन बाजार अनिवार्य रूप से बंद रहेगा यह आदेश भी 17 मार्च से लागू होगा ।

Read More: कांग्रेस की कार्रवाई पर बोले नरोत्तम- मानक को अमानक बना के छोड़ा, दिग्विजय पर साधा निशाना

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लोगों से मास्क लगाने और गाइड लाइन (guideline) का पालन करने की विशेष अपील की है। वही उन्होंने कहा कि प्रदेश के कुछ इलाके में तेजी से पॉजिटिव मरीजों (corona positive) की संख्या में वृद्धि हो रही है अचानक से कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या चिंता का विषय है। हालांकि उन्होंने लॉकडाउन (Lockdown) से साफ इंकार कर दिया है।

बता दें कि मध्य प्रदेश में इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर समेत कई जिलों में अचानक पॉजिटिव मरीजों की संख्या में वृद्धि देखी जा रही है। वही इस को लेकर जिला प्रशासन को सख्त आदेश दिए गए हैं। साथ ही गृह मंत्रालय द्वारा गाइडलाइंस जारी की गई है। राजधानी भोपाल में पिछले दिनों नाइट कर्फ्यू (night curfew) भी लगाया गया है। लोगों से बाजार में भीड़ इकट्ठा न करने और मास्क (mask) पहनने की अपील की जा रही है। वहीं मास्क नहीं पहनने वालों पर भी सख्त कार्रवाई की जा रही है।

बता दें कि भोपाल (bhopal) में सोमवार को 196 पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है। वही संक्रमण से एक व्यक्ति की मौत हुई हो गई है। जबकि इंदौर (indore)  में 259 नए मरीज मिले हैं। साथ ही जबलपुर (jabalpur) में 55, ग्वालियर (gwalior) में 25, उज्जैन (ujjain) में 34 और छिंदवाड़ा (chhindwada) में 25 मरीजों की पुष्टि हुई है। सोमवार को प्रदेश में कुल 707 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है वही संक्रमण की वजह से तीन को अपनी जान गंवानी पड़ी है।