कलेक्टर का आदेश, राजधानी भोपाल के इन क्षेत्रों में लगा कर्फ्यू, ये है कारण

कलेक्टर अविनाश लवानिया ने रविवार 17 जनवरी सुबह 9:00 बजे से आगामी आदेश तक के लिए पुराने भोपाल के कुछ क्षेत्रों में कर्फ्यू के आदेश दिए हैं।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश की राजधानी भोपाल (bhopal) के कुछ इलाकों में एक बार फिर से कर्फ्यू (curfew) लगाया गया है। हालांकि इस बार के कर्फ्यू का कारण कोरोना वायरस (corona virus) नहीं बल्कि कुछ अन्य कारण है। भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया (avinash lavania) ने रविवार सुबह 9:00 बजे से आगामी आदेश तक के लिए पुरानी भोपाल के कुछ इलाकों में कर्फ्यू के आदेश जारी किए हैं।

भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया के आदेश के मुताबिक राजधानी भोपाल के पुराने क्षेत्र में एक समुदाय विशेष द्वारा किसी निर्माण कार्य की शुरुआत की जा रही है। इस निर्माण कार्य का विरोध कुछ अन्य समुदाय व स्थानीय लोगों द्वारा किया जा सकता है। जिसको देखते हुए शहर में शांति और कानून व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए और लोक संपत्ति और मानव जीवन को क्षति से बचाने के लिए कलेक्टर अविनाश लवानिया ने रविवार 17 जनवरी सुबह 9:00 बजे से आगामी आदेश तक के लिए पुराने भोपाल के कुछ क्षेत्रों में कर्फ्यू के आदेश दिए हैं।

Read More:इस वर्ग को रोजगार योजना से जोड़ने की तैयारी में राज्य शासन, मंत्री ने अधिकारियों को दिए निर्देश

आदेश के अनुसार पुराने भोपाल के जिन क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाया जा रहा है। उनमें थाना हनुमानगंज, टीला जमालपुरा और गौतम नगर क्षेत्र पूर्ण रुप से बंद किए जाएंगे।वहीं इतवारा, सोमवारा, बुधवारा, भारत टॉकिज चौराहा को पुलिस ने बंद कर दिया है। टीआई के मुताबिक इन इलाके में 30 हजार वर्गफीट जमीन पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) बाउंड्री वॉल बनवा रहा है।वहीँ स्थानीय लोगों ने जमीन को वक्फ बोर्ड का बताया था जिसके बाद कोर्ट में मामला पहुँचने के बाद फैसला RSS पक्ष में आया।

जिसके बाद RSS पक्ष वहां बाउंड्री क निर्माण कर रही है। इस दौरान विवाद की सम्भावना को देखते हुए ये निर्णय लिया गया है। कर्फ्यू के दौरान कोई भी व्यक्ति इमरजेंसी सेवाओं को छोड़कर घर से बाहर नहीं निकल सकेगा। इसके अलावा सभी व्यवसायिक संस्थान, दुकान, उद्योग इत्यादि पूर्ण रुप से बंद रहेंगे। केवल हॉस्पिटल और मेडिकल दुकानें खुली रहेंगी। वहीं अत्यावश्यक कार्यों के लिए ही यातायात की अनुमति रहेगी।

हालांकि यह आदेश शासकीय सेवक पुलिसकर्मी और सशस्त्र बल पर लागू नहीं होगा। इसके साथ ही प्रतियोगी परीक्षा में बैठने वाले छात्रों पर भी आदेश लागू नहीं होगा। छात्र प्रवेश पत्र, आईडी कार्ड दिखाकर प्रतियोगी परीक्षा के लिए जा सकेंगे। इसके साथ ही साथ परीक्षा की ड्यूटी में लगे कर्मचारियों पर भी आदेश लागू नहीं होगा। वहीं अन्य परिस्थिति में लागू शर्तों के साथ छूट दी जा सकती है।

कलेक्टर का आदेश, राजधानी भोपाल के इन क्षेत्रों में लगा कर्फ्यू, ये है कारण