इंदौर: लॉकडाउन पर क्रिकेट भारी, एक गेंद फेंके जाने को लेकर हत्या तक पहुंचा विवाद

जिसमे बल्ले से युवक को चोंट लगी थी और बाद में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। वही पुलिस घटना की तफ्तीश में जुट गई है।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। लॉकडाउन ऊपर से कोरोना कर्फ्यू, बावजूद इसके इंदौर में कई ऐसी गतिविधियां जारी है। जिसके चलते कई सवाल उठ रहे है। इन सवालों के बीच कोरोना कर्फ्यू में टाइमपास करना शहर के मल्हारगंज थाना क्षेत्र में इतना महंगा पड़ गया कि एक 20 वर्षीय युवक को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। ये तो सभी जानते है न सिर्फ इंदौर बल्कि पूरे इंडिया में क्रिकेट को धर्म की तरह पूजा जाता है लेकिन ये ही पूजा एक युवक की जिंदगी पर इतनी नागवार गुजरी की साथ मे ही क्रिकेट खेल रहे एक दोस्त ने उसकी हत्या कर दी।

घटना इंदौर के मल्हारगंज थाना क्षेत्र की है जहां लॉक डाउन के दौरान लगे कोरोना कर्फ्यू के दौरान शाम को यश पिता दिलीप जैन घर से बाहर जाने का बोलकर पहुंच जाता है सीधे सुभाष उच्चतर माध्यमिक विद्यालय। जहां पहले से ही क्रिकेट खेल दोस्तो के साथ उसने भी क्रिकेट खेलना शुरू किया। जनता कालोनी से निकलकर बड़ा गणपति मंदिर के समीप खेले जा रहे मैच का हश्र क्या होगा ये तो खुद यश को भी नही पता था।

Read More: इंदौर: कोरोना से अब तक 1017 मौतें, 9275 लोगों का इलाज जारी, कोरोना कर्फ्यू में मिली ये छूट

जानकारी के मुताबिक स्कूल परिसर में खेला जा रहा खेल विवाद का रूप उस वक्त लेता है। जब एक ओवर में एक गेंद कम फेंके जाने की बात इतनी बढ़ जाती है कि यश जैन पर करण शर्मा नामक युवक द्वारा हमला बोल दिया जाता है। खेल खेल में क्रिकेट के बेट से हुए हमले के बाद यश जैन बुरी तरह से घायल हो जाता है और उसके सिर पर गम्भीर चोंट आती है।

इसके बाद घायल यश को इंदौर के चोइथराम अस्पताल इलाज के लिए ले जाया जाता है। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। वही बल्ले से हमला करने वाले करण शर्मा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मल्हारगंज थाना प्रभारी प्रीतमसिंह ठाकुर ने बताया कि क्रिकेट खेलने के दौरान विवाद हुआ था। जिसमे बल्ले से युवक को चोंट लगी थी और बाद में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। वही पुलिस घटना की तफ्तीश में जुट गई है।