दमोह उपचुनाव: आज नामांकन पत्र दाखिल करेंगे राहुल लोधी, सीएम शिवराज रहेंगे मौजूद

राहुल लोधी को इस वक्त वर्तमान में कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त है। राहुल लोधी मध्य प्रदेश सिविल सप्लाई कॉरपोरेशन के अध्यक्ष हैं लेकिन इस बार दमोह सीट से उनके लिए जीत हासिल करना इतना आसान नहीं होगा।

उपचुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में 17 अप्रैल 2021 को होने वाले उपचुनाव (damoh by-election) के लिए आज बीजेपी प्रत्याशी नामांकन फॉर्म भरेंगे। एक तरफ जहां दमोह उपचुनाव के लिए जिला अध्यक्ष अजय टंडन (ajay tandon) को उम्मीदवार बनाया है। इधर दूसरी तरफ बीजेपी ने राहुल लोधी (rahul lodhi) पर उम्मीद जताया है।  आज दमोह चुनाव के लिए बीजेपी प्रत्याशी राहुल लोधी नामांकन दाखिल करेंगे।

वही नामांकन के समय राहुल लोधी के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा (vd sharma) भी मौजूद रहेंगे। उपचुनाव के लिए लगातार दोनों पार्टियां जनता के बीच जाकर प्रचार प्रसार कर रही है। वही जनता को रिझाने के लिए बड़े-बड़े दावे किए जा रहे हैं।

बता दे कि 2018 में बीजेपी के उम्मीदवार जयंत मलैया (jayant malaiya) को हराकर राहुल लोधी दमोह से विधायक बने थे। वही ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) के कांग्रेस से बीजेपी में जाने के कुछ समय बाद ही उप चुनाव के समय राहुल लोधी कांग्रेस का हाथ छोड़ बीजेपी में चले गए थे। जिसके बाद दमोह में अब कांग्रेस की टक्कर बीजेपी नहीं बल्कि कांग्रेस से ही है।

Read More: MP में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मरीज, चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने अधिकारियों को दिए अहम निर्देश

वहीं राहुल लोधी को इस वक्त वर्तमान में कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त है। राहुल लोधी मध्य प्रदेश सिविल सप्लाई कॉरपोरेशन के अध्यक्ष हैं लेकिन इस बार दमोह सीट से उनके लिए जीत हासिल करना इतना आसान नहीं होगा। हालांकि मलैया परिवार एक बार फिर बीजेपी के साथ शामिल हो गया है। जिससे मलैया के भितरघात का डर तो पूरी तरह से खत्म है।

अब ऐसे में दमोह की जनता एक बार फिर से राहुल लोधी पर विश्वास जताती है या नहीं ये बड़ा सवाल है। ऐसी स्थिति में राहुल लोधी के विरुद्ध अजय टंडन का खड़ा होना कांग्रेस को कितनी सफलता दिला पाएगा यह तो वक्त ही बताएगा। फिलहाल बीजेपी और कांग्रेस अपने स्तर से उपचुनाव के लिए जनता को रिझाने में लगे हुए हैं।