कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद डॉक्टर ने किया लोगों का इलाज, तहसीलदार ने 10 हजार का लगाया जुर्माना

झोलाछाप डॉक्टर पर तहसीलदार ने दस हजार रुपए का जुर्माना लगाया।

दतिया, सत्येन्द्र रावत। दतिया (Datia) में एक निजी क्लीनिक संचालक के ऊपर सेवढ़ा तहसीलदार (Tehsildar) साहिर खान ने 10 हजार का जुर्माना लगाया। दरअसल क्लीनिक संचालक और उसका बेटा कोरोना पॉजिटिव (Corona positive) होने बावजूद लोगों का इलाज कर रहे थे और जैसे ही इसकी सूचना तहसीलदार को लगी जिसके बाद जुर्माने की कार्यवाही की गई।

यह भी पढ़ें…सीएम शिवराज सिंह के निर्देश- हाई पॉजिटिविटी वाले जिलों पर विशेष ध्यान दें, सख्ती की जाए

जानकारी के अनुसार दतिया के सेवढ़ा तहसील की ग्राम थरेट में एक निजी चिकित्सक गोपाल सिंह व उनका बेटा अजीत सिंह कोरोना संक्रमित होने के बावजूद लोगों का इलाज कर रहे थे। इस पर सेवढ़ा तहसीलदार साहिर खान ने उन पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाते हुए नोटिस दिया है। नोटिस में कहा है कि आपका क्लीनिक सील कर दिया जाना चाहिए, थ्ररेट क्षेत्र में आप और आपके पुत्र दोनों ही कोरोना संक्रमित है उसके बावजूद आप अपने चिकित्सालय में भीड़ एकत्रित कर लोगों का इलाज कर रहे हैं। इसके तहत उन्होंने गोपाल सिंह पर आपदा प्रबंध की धारा के तहत 10 हजार रुपए का जुर्माना भी किया है। जुर्माना नहीं भरने पर क्लीनिक को सील करने की चेतावनी भी दी है। बता दें कि जिले में निजी चिकित्सकों द्वारा लोगों का इलाज किया जा रहा है, जहां पर काफी भीड़ हो रही है। थ्ररेट में डॉक्टर गोपाल सिंह खुद संक्रमित होने के बाद भी लोगों का इलाज कर रहे थे। ऐसे में उन्होंने कई लोगों को संक्रमित भी किया ही होगा। प्रशासन ने इस पर कार्यवाही करते हुए अभी जुर्माना लगाया है, इसके बाद उनके क्लीनिक को सील करने की भी कार्यवाही की जाएगी।

कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद डॉक्टर ने किया लोगों का इलाज, तहसीलदार ने 10 हजार का लगाया जुर्माना

यह भी पढ़ें…भिंड के सोनी गांव पहुंचे मंत्री ओपीएस भदौरिया, होम आइसोलेट मरीजों का जाना हालचाल