Bribe: नहीं ली रीडिंग, थमाया 4317 यूनिट का बिल, मामला निपटाने मांगी 20,000 की रिश्वत, FIR

इस कार्रवाई पर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर का कहना है कि विद्युत उपभोक्ता के साथ गलत रीडिंग देकर छलावा और धोखाधड़ी करने वाले किसी भी कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी आम जनता को कोई परेशानी या तकलीफ नही होनी चाहिए ।

Electricity

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ऊर्जा विभाग की जिम्मेदारी संभाल रहे सख्त और जनता के हित की बात करने वाले ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के गृह जिले में बिजली मीटर की रीडिंग को एडजस्ट करने के लिए 20,000 रुपये की रिश्वत मांगने का मामला सामने आया है। खुलासा होने के बाद मीटर रीडिंग की जिम्मेदारी उठा रही कंपनी के दो कर्मचारियों के खिलाफ FIR दर्ज की गई है।

मध्यक्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी उपभोक्ताओं के प्रति कितनी संवेदनशील है इसका उदाहरण ग्वालियर में देखने को मिला। मामला रीडिंग नहीं लेने फिर आंकलित खपत का बिल देने फिर उस बिल को एडजस्ट करने यानि कम करने के लिए 20,000 रुपये की रिश्वत मांगने का है। दरअसल ग्वालियर शहर के डी-13 द्वारिकापुरी फूलबाग में रहने वाली श्रीमती क्रांति देवी ने फूलबाग जोन मप्र मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ग्वालियर में शिकायत दर्ज करवाई कि विद्युत मीटर की रीडिंग लेकर बिल वितरित करने वाली कंपनी के मीटर रीडर अजीत राजावत पिछले 10 माह से रीडिंग लेने नहीं आया और उसके बाद अगस्त 2020 में एक साथ 4317 यूनिट का विल जारी किया गया।

Read More: पेट्रोल और गैस मूल्यवृद्धि पर कांग्रेस का विरोध, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान पर उठाए सवाल

जब उनसे भारी राशि के बिल के बारे में बात की गई तो उन्होंने इस बिल को एडजस्ट कर कम करवाने के लिए 20,000 रुपये की रिश्वत की मांग की।और इसकी शिकायत करने या बिल की राशि जमा नहीं देने पर उपभोक्ता को परेशान करने की धमकी दी गयी। शिकायत की गंभीरता को देखते हुए अधिकारियों ने इसकी जांच कराई और जब रिश्वत मांगे जाने और रीडिंग नहीं ली जाकर आंकलित खपत का बिल थमा कर उपभोक्ता को परेशान करने की पुष्टि हो गई तो एई फूलबाग जोन महेंद्र कौशल ने पड़ाव थाने में जाकर मीटर रीडर अजीत राजावत और सुपर वाइजर रविअग्रवाल के ल्हिलाफ पड़वा थाने में FIR दर्ज करवाई गई।

शिकायती आवेदन की जांच में अधिकारियों पाया गया कि मीटर रीडर अजीत राजावत द्वारा उपभोक्ता क्रांति देवी के विद्युत मीटर की सही रीडिंग न लेकर उपभोक्ता और बिजली कंपनी के साथ धोखाधड़ी की गई है और कंपनी की छवि धूमिल करने का प्रयासों किया गया है। इसलिए फीडबैक इंफ्रा. प्रा. लि. के मीटर रीडर अजीत राजावत और सुपरवाइजर रवि अग्रवाल के खिलाफ धारा 420,506,511,34 के तहत मामला दर्ज किया गया। इस कार्रवाई पर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर का कहना है कि विद्युत उपभोक्ता के साथ गलत रीडिंग देकर छलावा और धोखाधड़ी करने वाले किसी भी कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी आम जनता को कोई परेशानी या तकलीफ नही होनी चाहिए ।