हितग्राहियों को सुविधा, निशुल्क राशन वितरण व्यवस्था में बदले नियम, अब इस तरह मिलेगा अनाज

जिला खाद आपूर्ति अधिकारी ने कहा कि राशन दुकानदारों में से यदि दुकानदार संक्रमित होता है तो उसे चिकित्सा सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी लेकिन इस काम में लगे लोगों को ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है।

INDORE

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में कोरोना संकटकाल (corona pandemic) को देखते हुए पात्र परिवारों को 3 महीने का राशन एकमुश्त निशुल्क दिया जा रहा है। इस बीच जिला प्रशासन की तरफ से बड़ा निर्णय लिया गया है। जहां अगर बायोमेट्रिक सत्यापन (Biometric verification) के आधार पर राशन का वितरण किया जाएगा। बता दें कि कई लोगों को मुफ्त राशन उपलब्ध कराए जा चुके हैं। वहीं जिन लोगों को अब तक राशन प्राप्त नहीं हुए हैं। उनके लिए व्यवस्था बनाई गई है।

दरअसल बीते दिनों बगैर बायोमेट्रिक सत्यापन के आधार पर राशन वितरण किए जाने के संबंध में जिला खाद्य नागरिक आपूर्ति अधिकारी ज्योति शाह नरवरिया ने निर्देश जारी किए हैं। आपूर्ति अधिकारी नरवरिया ने बताया कि कई ऐसे ही चुराई है जो वृद्ध और निशक्त है। उनके लिए आशीर्वाद योजना अंतर्गत उनके घर तक राशन पहुंचाया जाएगा और नामित व्यक्ति के नाम पर ही राशन वितरण किया जाएगा। वहीं उन्होंने कहा कि यदि किसी हितग्राही को पोटेबिलिटी के माध्यम से राशन प्राप्त करना है तो उसे बायोमेट्रिक सत्यापन के आधार पर राशन प्राप्त करना होगा लेकिन अब बगैर बायोमेट्रिक सत्यापन के आधार पर राशन का वितरण कराया जाएगा।

Read More: बंगाल में पार्टी के प्रदर्शन पर बोले सीएम शिवराज- 3 सीट से 76 होना भी चमत्कार है

इतना ही नहीं जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी ने यह भी बताया कि राशन वितरण का काम कर रहे विक्रेताओं को उचित मूल्य पर सैनिटाइजर, ग्लव्स और सर्जिकल मास्क उपलब्ध कराए जाएंगे इसके लिए भी निर्देश जारी किए गए हैं। वहीं उन्होंने विक्रेताओं से अपील की है कि प्रारंभिक लक्षण देखने पर कोरोना की जांच अवश्य कराएं और इसे प्राथमिकता के आधार पर ले। इतना ही नहीं जिला खाद आपूर्ति अधिकारी ने कहा कि राशन दुकानदारों में से यदि दुकानदार संक्रमित होता है तो उसे चिकित्सा सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी लेकिन इस काम में लगे लोगों को ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है।

Read More: दमोह में कांग्रेस की जीत पर बोले नरोत्तम मिश्रा- हम हारे नहीं, छलछन्दों से छले गए हैं

बता दें कि मध्य प्रदेश में कोरोना से हालत बेकाबू है लगातार बड़ी संख्या में संक्रमित मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है। वहीं मृत्यु दर में भी वृद्धि देखने को मिली है। जिसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गरीब और निशक्त परिवारों को शक्ति और व्यवस्था प्रदान करने के लिए 3 महीने तक मुक्त राशन वितरण का ऐलान किया था। जिसके बाद प्रदेश के कई हितग्राहियों को इसका लाभ मिल चुका है। वहीं जिन हितग्राहियों को राशन वितरण का लाभ नहीं मिला है उन्हें अब बगैर बायोमेट्रिक सत्यापन व्यवस्था के राशन उपलब्ध कराई जाएगी।