Farm Bill Protest: आंदोलन के बीच भूख हड़ताल पर अन्नदाता, इन जगहों पर देंगे धरना

देशभर के किसानों द्वारा देशव्यापी बंद के बाद अब भूख हड़ताल बुलाई गई है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देशभर में कृषि कानून (Agricultural law) के खिलाफ विरोध अपने चरम पर पहुंच चुका है। सरकार के साथ लगातार पांच बैठक होने के बाद अब तक कोई लाभकारी नतीजे सामने नहीं आए हैं। किसान संगठनों (Farmer organizations) ने कहा है कि सरकार उनके मुद्दे मानने को तैयार नहीं है। जिसके खिलाफ आज किसान संगठनों ने देशभर में भूख हड़ताल (hunger strike) का आवाहन किया है। देशभर के किसानों द्वारा देशव्यापी बंद के बाद अब भूख हड़ताल बुलाई गई है। इसके साथ ही साथ दिल्ली (Delhi) के अलग-अलग नाकों पर किसान संगठन अनशन करेंगे। इस मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने भी भूख हड़ताल का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि वह पूरे 1 दिन उपवास रखेंगे।

बता दे कि भारतीय किसान यूनियन पंजाब के जनरल सेक्रेटरी हरिंदर सिंह के मुताबिक सरकार को जिद से झुकाने के लिए दिल्ली पंजाब सहित अलग-अलग सीमा पर सुबह 8:00 से शाम 5:00 बजे तक किसान संगठनों के लीडर भूख हड़ताल करेंगे। किसान संगठनों के लीडर का साथ देशभर के किसान भी देंगे।

किसान संगठन के 25 संगठन सिंधु बॉर्डर, 10 संगठन टिकरी बॉर्डर, 5 संगठन यूपी बॉर्डर पर धरना देंगे। किसानों ने अपनी भूख हड़ताल शुरू कर दी है। किसानों का कहना है कि किसानों की समस्या सुनने के लिए बैठक में खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra ModI) को शामिल होना चाहिए और सीधे तौर पर कानून को रद्द किया जाना चाहिए।

Read More: नए कृषि बिलों को लेकर देशभर में विरोध, मध्यप्रदेश में किसानों को मिल रहा लाभ

भूख हड़ताल पर राजनीतिक दलों का भी समर्थन

वही किसान संगठनों द्वारा भूख हड़ताल पर राजनीतिक दलों का भी समर्थन नजर आ रहा है। आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने भी भूख हड़ताल का समर्थन किया है इसके साथ ही साथ पंजाब के अकाली दल ने भी इस भूख हड़ताल का समर्थन करते हुए उपवास की बात कही है।

पुलिसकर्मियों की तैनाती

इसी बीच केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि सरकार जल्द ही एक तारीख तय कर किसान संघ के नेताओं को अगले दौर की वार्ता के लिए बुलाएगी। वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अरविंद केजरीवाल के किसान समर्थन को नाटक बताया है। वहीं किसानों के आंदोलन को देखते हुए दिल्ली-जयपुर हाईवे को बंद कर दिया गया है। इसके साथ ही साथ गुड़गांव-फरीदाबाद में 4000 से अधिक पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

मध्य प्रदेश में किसान चौपाल मुहीम

दूसरी तरफ मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj singh chauhan) लगातार कृषि कानूनों के हित में चर्चा करते नजर आ रहे हैं और इसके लिए बीजेपी ने मेगा प्लान (Mega Plan) बनाया है। जिसके मुताबिक प्रदेश भर में वह बैठक करेगी और किसानों के साथ किसान चौपाल लगाकर नए कृषि कानून के प्रावधानों पर चर्चा करेगी।

किसान नेता का कहना है कि 19 दिसंबर से प्रस्तावित अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल रद्द की गई है। इसके जगह सोमवार को एक दिवसीय हड़ताल जारी रहेगी। साथी साथी आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक केंद्र सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं ले लेती।