भारत बंद: सड़कों पर निकले किसान, प्रधानमंत्री का पुतला फूंका, बाज़ार रहा बंद

किसानों का स्पष्ट तौर पर यह भी कहना है कि हमारा आंदोलन तब तक जारी रहेगा। जब तक केंद्र सरकार काले कृषि कानून को वापस नहीं ले लेती।

डबरा, सलिल श्रीवास्तव। संयुक्त किसान मोर्चा (sanjukt kisan morcha) के भारत बंद (bharat bandh) के आवाहन का व्यापक असर आज एक बार फिर डबरा में देखने को मिला। किसानों (farmers) के बंद के आवाहन पर डबरा के व्यापारियों (traders) ने अपना समर्थन दिया और सुबह से ही अपने प्रतिष्ठान बंद रखें। आसपास के क्षेत्रों के सैकड़ों की संख्या में किसान मंडी प्रांगण में एकत्रित हुए और वहां से रैलियों के रूप में बाजार में निकले। जहां लोगों से बंद में सहयोग की अपील करते नजर आए। सबसे बड़ी बात इस दौरान किसानो ने नगर के मुख्य चौराहे पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का पुतला फूंका और ज़मकर नारेबाज़ी की और प्रशासन देखता रहा।

आपको बता दें कि जब से किसान आंदोलन शुरू हुआ है। तभी से लगातार डबरा में किसान आंदोलन हमेशा मुखर होता हुआ दिखा है। चाहे डबरा क्षेत्र में धान का मूल्य हो या फिर किसान आंदोलन का दिल्ली में प्रदर्शन एक किसान दिल्ली में आंदोलन के दौरान शहीद भी हो चुका है। जिसको लेकर भी लगातार किसानों ने बैठकें की और उसे शहीद का दर्जा दे दिया। पिछले 4 महीने से डबरा में हमेशा ही इस आंदोलन ने रफ्तार पकड़ी है।

Read More: Corona Vaccination: Pfizer, BioNTech की नई पहल, बच्चों के लिए जल्द आ सकती है कोरोना वैक्सीन

जिसको देखकर आज प्रशासन ने पुख्ता इंतजाम किए गए थे। सुबह से ही आसपास के थानों का बल डबरा बुला लिया गया और जगह-जगह पॉइंट लगाकर उनकी तैनाती कर दी गई। ताकि कोई भी उग्र प्रदर्शन ना हो सके किसानों का साफ तौर पर कहना है कि हम शांतिपूर्ण बंद करा रहे है।  जिसमें क्षेत्र के व्यापारियों का हमें पूर्ण समर्थन प्राप्त है। उन्होंने दुकानदारों से हाथ जोड़कर अपील की कि वह बंद में अपना सहयोग दें।

किसानों का स्पष्ट तौर पर यह भी कहना है कि हमारा आंदोलन तब तक जारी रहेगा। जब तक केंद्र सरकार काले कृषि कानून को वापस नहीं ले लेती। इस प्रदर्शन में डबरा के अलावा भितरवार ,पिछोर ,चीनोर,छोटी अकबई,बाबूपुर और क्षेत्र के सैकड़ों की संख्या में किसान शामिल थे।