इंदौर: जिला कोर्ट के रिकॉर्ड रूम में भीषण आग, फायर ब्रिगेड ने कड़ी मशक्कत से पाया काबू 

हालांकि देर रात को फायर ब्रिगेड की टीम की कड़ी मेहनत और मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया लेकिन कोर्ट परिसर के तलघर मे 1952 से चल रहे रिकॉर्ड रूम में करीब 40 से 50 साल पुराना रिकॉर्ड रखा हुआ था।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) के तेजी से बढ़ते शहर इंदौर (Indore) में गुरुवार शाम को एम.जी.रोड़ (M.G.Road) स्थित जिला कोर्ट परिसर के बेसमेंट में स्थित रिकॉर्ड रूम में अचानक आग लग गई। हालांकि आग लगने की वजहों का अब तक खुलासा नही हो पाया है। आग इतनी भयावह थी जिला कोर्ट में रखे वर्षो पुराने रिकॉर्ड को बचाने के लिए 50 से ज्यादा टैंकर पानी बहाया गया। तब कही जाकर आग पर काबू पाया जा सका।

मिली जानकारी के मुताबिक आगजनी की घटना का पता उस वक्त चला जब कोर्ट के केरम रूम में कुछ वकील केरम खेल रहे थे। तब ही अचानक उन्हें जलने की बदबू आई और जब वकीलों ने आग लगने वाले स्थान को खोजा तो पता चला कोर्ट के बेसमेंट में स्थित रिकार्ड रूम में आग लगी है।

इधर, इसके बाद आगजनी की सूचना फायर पुलिस को दी गई तो मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। दरअसल, जिस स्थान पर आग लगी थी वहां पर वकीलों के चैंबर बने थे जिसके चलते आग पर काबू पाने में परेशानी आ रही थी। धीरे धीरे आग ने इतना विकराल रूप ले लिया कि आग का धुंआ पूरे क्षेत्र में फैलने लगा। इधर, जिला कोर्ट में आग की सूचना के बाद स्थानीय पुलिस के साथ ही पुलिस के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए।

Read More: 9वीं से 12वीं तक की परीक्षा को लेकर सरकार का बड़ा फैसला, दिशा निर्देश जारी

आग पर काबू पाने के लिए करीब 80 लोगों की टीम देर रात तक जुटी रही। तुकोगंज टीआई कमलेश शर्मा के अनुसार गुरुवार शाम 7.30 बजे आग लगने की सूचना मिली। जेसीबी से दीवार तोड़ना चाही, लेकिन बिल्डिंग में दरार आ गई।
डीआईजी मनीष कपूरिया ने कहा कि काफी पुरानी बिल्डिंग है। इसलिए इसका कोई सा भी हिस्सा जेसीबी से तोड़ना खतरनाक हो सकता है। इसलिए पोकलेन मशीन बुलवाई और नीचे सुराख किया गया। रात 12 बजे एक सुरंग बनाई और उसके जरिए अंदर पाइप से पानी डाला गया। बड़ा पाइप अंदर डालकर धुआं बाहर निकालने का प्रयास किया गया।

हालांकि देर रात को फायर ब्रिगेड की टीम की कड़ी मेहनत और मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया लेकिन कोर्ट परिसर के तलघर मे 1952 से चल रहे रिकॉर्ड रूम में करीब 40 से 50 साल पुराना रिकॉर्ड रखा हुआ था। जिनमे सिविल से लेकर हाईकोर्ट तक के मामलो में लंबित अपील के रिकार्ड भी है। फिलहाल, आगजनी के बाद कितना रिकॉर्ड जल गया है इसका पता आज ही चल पाएगा जब पूरे रिकॉर्ड को चेक किया जाएगा। फिलहाल, भीषण आगजनी की घटना से कोर्ट, प्रशासन और पुलिस में हड़कम्प मच गया है वही आग लगने की वजह का पता लगाने में भी पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीम जुटी हुई है।