जबलपुर, संदीप कुमार। पश्चिम मध्य रेलवे के मुख्यालय में आज तड़के सुबह अचनाक खतरे का सायरन बजता है। पता चलता है कि भेड़ाघाट रेल्वे स्टेशन के पास कोई बड़ा रेल हादसा हो गया है। आनन फानन में रेलवे के अधिकारियों सहित रिलीफ ट्रेन और राहत-बचाव दल मौके पर पहुँचता है और जुट जाता है। यात्रियों को बचाने में,यह खबर देखकर घबराने की जरूरत नही है। यह सब रेलवे का मॉकड्रिल था जो कि समय समय पर रेलवे करता रहता है।

सब कुछ लग रहा था बड़ा रेल हादसे जैसा

भले ही रेलवे रेलवे का ये मॉकड्रिल था पर एक पल के लिए स्थानीय लोगों को लगा कि भेड़ाघाट के पास कोई बड़ा रेल हादसा हो गया है। राहत-बचाव दल लोगो को दुर्घटनाग्रस्त ट्रेन से बाहर निकाल रहे है। करीब 3 से 4 घंटे रेलवे का दुर्घटना बचाव मॉकड्रिल चलता रहा।

Read More: MP News: मीनाक्षी बनी मध्यप्रदेश की गृहमंत्री! लोगों की सुनी समस्याएं

रेल्वे के अधिकारी भी रहे सुबह तक मौजूद

तड़के सुबह जैसे ही मुख्यालय में खतरे का सायरन बजा वैसे ही तमाम रेलवे के अधिकारियों कर्मचारी रिलीफ ट्रेन लेकर भेड़ाघाट स्टेशन के पास पहुंच गए। जिस तरह से ट्रेन हादसे के दौरान राहत बचाव किया जाता है। ठीक उसी तरह से पूरी मोबाइल को अंजाम दिया गया। इस मौके पर रेलवे के तमाम वरिष्ठ आला अधिकारी भी मौजूद रहे।