राहुल लोधी के इस्तीफे पर कमलनाथ की प्रतिक्रिया- प्रदेश का सम्मान बचाने आगे आए जनता

कमलनाथ ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि 10 नवंबर को क्या परिणाम परिणाम आएंगे। यह बीजेपी को पता चल गया है। बीजेपी अपनी संभावित हार से बौखलाई हुई है। जिसके बाद उनके सत्ता की हवस, तड़प और बौखलाहट साफ दिखाई दे रही है।

उपचुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  मध्य प्रदेश (Madhya pradesh) राजनीति में उस समय सियासी हलचल तेज हो गई। जब दमोह विधायक राहुल सिंह लोधी (Rahul singh lodhi) ने कांग्रेस (congress) से इस्तीफा दे दिया। कांग्रेस से इस्तीफा देने के 1 घंटे के बाद राहुल सिंह लोधी ने सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM shivraj singh chauhan) और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा (VD Sharma) के सामने भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। जिसके बाद से प्रतिक्रियाओं का दौर शुरू हो गया है। राहुल लोधी के त्यागपत्र पर अब कमलनाथ (Kamalnath) ने अपनी प्रतिक्रिया दी है।

अब दमोह के पूर्व विधायक राहुल लोधी के कांग्रेस से इस्तीफा देने पर पीसीसी चीफ कमलनाथ ने बीजेपी सरकार को घेरा है। कमलनाथ ने मध्य प्रदेश की जनता से अपील की है कि वह जनादेश और अपने वोट का सम्मान बचाए रखें। मध्य प्रदेश की जनता आगे आए और प्रदेश को कलंकित होने से बचाएं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा पार्टी से बागी नेता लगातार प्रदेश पर उपचुनाव का बोझ डालते जा रहे हैं। ऐसे लोग प्रदेश को कहां लेकर जाएंगे।

Read More: MP उपचुनाव : राहुल सिंह लोधी के इस्तीफे से हड़कंप, सामने आया दिग्विजय सिंह-अरुण यादव का बयान

वहीं कमलनाथ ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि 10 नवंबर को क्या परिणाम परिणाम आएंगे। यह बीजेपी को पता चल गया है। बीजेपी अपनी संभावित हार से बौखलाई हुई है। जिसके बाद उनके सत्ता की हवस, तड़प और बौखलाहट साफ दिखाई दे रही है। भाजपा को ना लोकतंत्र में विश्वास है, ना ही जनादेश में, ना ही नैतिकता में रह गया है। कमलनाथ ने प्रदेश की जनता से अपील की है कि वह आगे आकर लोकतंत्र और संविधान की रक्षा करें। बीजेपी के इस गन्दी राजनीति को करारा जवाब देते हुए इस उपचुनाव में उसका अंत करें।

बता दे कि राम नवमी और विजयदशमी के मौके पर दमोह के पूर्व विधायक राहुल सिंह लोधी ने अपना इस्तीफा प्रोटेम स्पीकर राजेश्वर शर्मा को सौंपा। जिसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा के सामने भोपाल में उन्होंने बीजेपी की सदस्यता ले ली थी। उनके इस्तीफा देते ही मध्यप्रदेश में एक और सीट रिक्त हो गया है। मध्यप्रदेश विधानसभा द्वारा जिसकी अधिसूचना भी जारी कर दी गई है।