MP में होगी किसान महापंचायत, राकेश टिकैत भी होंगे शामिल

राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) अब मध्यप्रदेश में आने वाले आठ मार्च को शिवपुरी (Shivpuri) में किसान महापंचायत का आयोजन करेंगे वहीं 14 मार्च को रीवा (Reva) और 15 मार्च को जबलपुर (Jabalpur) के सिहोरा में किसान महापंचायत का आयोजन होगा है।

भोपाल ,डेस्क रिपोर्ट। दिल्ली (Delhi) में चल रहे किसान आंदोलन (kisaan aandolan) की आग की लपटें अब मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) तक पहुंच गई है। किसान आंदोलन में प्रमुख चेहरे के तौर पर उभरे राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) अब मध्यप्रदेश में भी अपना समर्थन करवाने पहुंच रहे हैं। आने वाले आठ मार्च को राकेश टिकैत शिवपुरी (Shivpuri) में किसान महापंचायत का आयोजन करेंगे वहीं 14 मार्च को रीवा (Reva) और 15 मार्च को जबलपुर (Jabalpur) के सिहोरा में किसान महापंचायत का आयोजन होगा है। इन तीनों ही जगह पर किसान महापंचायत (Mahapanchayat) में राकेश टिकैत शामिल होंगे। वही जबलपुर के सिहोरा में ट्रैक्टर रैली के साथ टिकैत सभा में शामिल होंगे।

यह भी पढ़ें…..MP News : 6 और 7 मार्च को प्रदेश दौरे पर रहेंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, नर्मदा आरती में भी होंगे शामिल

मध्यप्रदेश में होने वाले इस किसान महापंचायत के कई मायने निकले जा रहे हैं। सूत्रों की माने तो इस बहाने कांग्रेस (Congress) अपनी खोई हुई राजनीतिक जमीन भी तलाशने में जुटी है। जबलपुर के सिहोरा में होने वाली किसान पंचायत को कांग्रेस का समर्थन मिल रहा है। कांग्रेस नेता और पनागर से विधानसभा चुनाव (Assembly elections) के प्रत्याशी सम्मति सैनी (sammati sainee) का कहना है कि देश भर में केंद्र सरकार के नए कृषि बिलों का विरोध हो रहा है। इसके बावजूद केन्द्र सरकार अपने कदम पीछे लेने को तैयार नहीं है। देश के हर कोने के किसानों में केन्द्र सरकार (Central government) के प्रति काफी नाराजगी है। इसी के चलते कांग्रेस इस आंदोलन को अपना समर्थन दे रही है।

यह भी पढ़ें…..Jabalpur News: राज्य स्तरीय हॉकी प्रतियोगिता में हिस्सा लेने पहुंची महिला खिलाड़ी हुई गायब, मचा हड़कम्प

भारतीय किसान यूनियन (Indian Farmer’s Union) के संभागीय अध्यक्ष रमेश पटेल (Ramesh Patel) का कहना है कि , किसान आंदोलन को लेकर सिहोरा में गहरी नाराजगी है। उनका कहना है कि यह किसानों की भूमि है और यहां पूर्व में भी बड़ी सभाएं हुई हैं। और अब 15 मार्च को एक बार फिर किसान बड़ी संख्या में पहुंच कर अपनी ताकत दिखाएंगे। यहां का किसान अपने हक के लिए हमेशा से मुखर रहा है। इस किसान महापंचायत में किसानों को शामिल होने के लिए गांव-गांव न्यौता दिया जा रहा है।