मंदसौर: शहर में कोरोना का पहला केस आया सामने, कर्फ्यू की घोषणा

मंदसौर।तरुण राठौर।

शहर में कोरोना का पहला केस सामने आया है। गोल चौराहा स्थित नपा कॉलोनी में रहने वाले एक परिवार की 24 वर्षीय युवती की रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। मंदसौर जिला प्रशासन को यह रिपोर्ट शुक्रवार देर रात मिली। युवती पुना से वापस आईं थी। रिपोर्ट मिलते ही प्रशासन हरकत में आया और रात 2 बजे शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया। आधीरात को ही गोल चौराहा नपा कॉलोनी क्षेत्र के अलावा राम टेकरी, मेघदूत नगर को सील कर दिया गया है। यहाँ के निवासियों को घर से बाहर न निकले की सख्त हिदायत दी है। इसका पालन न करने वालो पर वैधानिक कार्यवाही की जाने की मुनादी की गई।

दूसरी तरफ आधी रात में प्रशासन के अधिकारियों की आपात बैठक हुई और आगे की रणनीति बनाई गई। शहर में देर रात से लागू हुए कर्फ्यू में सिर्फ दवा की कुछ दुकानों और दूध विक्रेताओं को छूट दी गई है। कलेक्टर मनोज पुष्प ने रात 2 बजे मीडिया से चर्चा करते हुए बताया कि गोल चौराहे के पास नगर पालिका कालोनी का एक पॉजिटिव केस आया है। थोड़ी देर पहले ही उसकी रिपोर्ट प्रशासन को प्राप्त हुई है। इसमें पूना की ट्रैवल हिस्ट्री है और फैमिली में कुछ फंक्शन था जिसमें युवती के अलावा परिवार के कुछ लोग शामिल थे। उनकी भी हिस्ट्री हमारे पास है। हम लोगों ने पहले से लिस्ट बनाकर रखी हुई है जो महिला के कॉन्टेक्ट लिस्ट में थे।शामिल लोगों को कवारांटाइन करने की शुरूआत कर दी गई है। युवती को 6 अप्रैल को ही कवारांटाइन कर दिया गया था। गोल चौराहे के आस-पास का सारा एरिया बफर जोन बना दिया गया है। वहीं जितने लोग सेकंड लिस्ट में हैं उनकी भी पहचना करके कवारांटाइन भेजने की तैयारी की जा रही है। मंदसौर नगरपालिका क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है। दूध और दवा की व्यवस्था चालू रहेगी।इसके अलावा आगे की परिस्तिथियों के हिसाब से कर्फ्यू में ढील दी जा सकती है।

कोरोना पॉजिटिव का मामला सामने आने के बाद रात को ही नगर का स्वास्थ्य अमला सक्रिय हो गया। कॉलोनी की पूरी गली में कीटनाशक का छिड़काव करके लोगों को कवारांटाइन करने का कार्य शुरू कर दिया गया है।