mp board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश बोर्ड (MP Board) की परीक्षा (Examination) से पहले राज्य शासन ने 10वीं और 12वीं के परीक्षार्थियों को बड़ी राहत दी है। जहां आखिरी तारीख निकल जाने के चलते प्रदेश के लाखों छात्र फॉर्म भरने से वंचित रह गए थे। अब उन्हें राज्य शासन ने एक और मौका दिया है। अब माध्यमिक शिक्षा मंडल (Board of Secondary Education) की 10वीं और 12वीं परीक्षा फॉर्म (Exam Form) 100 रुपए लेट फीस (Late fees) के साथ 31 दिसंबर तक भरी जा सकती है।

दरअसल पहले फॉर्म भरने के लिए छात्रों को 15 दिसंबर तक का वक्त दिया गया था। आखरी समय निकल जाने के बाद लेट फाइन 2000 लिए जा रहे थे। जिस पर सोमवार को मंडल ने प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन (Private School Association) के साथ बैठक की थी और बैठक में निर्णय लिया गया। इस मामले में माध्यमिक शिक्षा मंडल ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि 31 दिसंबर तक सामान्य शुल्क 900 और 100 रुपए लेट फीस के साथ छात्र आवेदन कर सकते हैं। एक स्टूडेंट काे अब विलंब शुल्क के 1900 रुपए कम देने पड़ेंगे।

इसके साथ ही माध्यमिक शिक्षा मंडल ने यह भी आदेश जारी किया है कि 1 से 15 जनवरी 2021 तक फॉर्म भरने पर छात्रों को 2000 रुपए और 16 से 31 जनवरी तक 5000 रुपए विलंब शुल्क जमा करनी होगी। मंडल ने यह भी कहा कि 31 जनवरी के बाद यदि कोई छात्र फॉर्म भरना चाहता है तो परीक्षा शुरू होने के एक माह पूर्व तक विलंब शुल्क 10000 रुपए के साथ परीक्षा फॉर्म भर सकते हैं।

Read More: MP Board – परीक्षा से पहले 10वीं-12वीं के छात्रों के सामने खड़ी हुई यह परेशानी

बता दें कि अभी तक के आदेश के मुताबिक परीक्षा फॉर्म भरने की आखिरी तारीख 15 दिसंबर रखी गई थी। उसके बाद 31 दिसंबर तक 2000 विलंब शुल्क और 31 जनवरी तक 5000 रुपए विलंब शुल्क के साथ परीक्षा फॉर्म भरे जाने की बात कही गई थी। जिस पर बैठक में निर्णय लिया गया है और विलंब शुल्क को घटाया गया। हालांकि एसोसिएशन के प्रतिनिधि मंडल के अध्यक्ष श्री राधेश्याम जुलानिया ने परीक्षा फॉर्म भरने की तारीख आगे बढ़ाने की मांग से इनकार कर दिया है। वहीं दूसरी तरफ एसोसिएशन के अध्यक्ष अजित सिंह ने 100 विलंब शुल्क के साथ फॉर्म भरने के निर्णय का स्वागत करते हुए आंदोलन करने के निर्णय को निरस्त कर दिया है।

बता दें कि 15 दिसंबर तक आखिरी तिथि होने की वजह से 10 वीं, 12वीं बोर्ड परीक्षा के कई विद्यार्थी परीक्षा फॉर्म भरने से वंचित हो गए थे। प्रदेश के करीब 300000 विद्यार्थी फॉर्म भरने से चूक गए थे। जिसके बाद वह 100 रुपए विलंब शुल्क के साथ 31 दिसंबर तक फॉर्म भर सकते हैं।