MP Board: 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा के छात्रों को राहत, प्रैक्टिकल एग्जाम में समय बंधन समाप्त

17 अप्रैल से शुरू होने वाली परीक्षा 20 मई तक चलेगी। इस मामले में मंडल के अधिकारियों का कहना है की प्रायोगिक परीक्षा के लिए बच्चों को अधिक समय सीमा दिया जा रहा है।

mp board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में MP Board 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा (10th-12th board exam)  के लिए माशिमं द्वारा प्रैक्टिकल परीक्षाओं (practical exam) में समय की बंधन को खत्म कर दिया गया है। अब छात्र प्रैक्टिकल परीक्षा अपनी सुविधा के अनुसार दे सकेंगे। प्रदेश में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए माध्यमिक शिक्षा मंडल (Board of Secondary Education) द्वारा यह निर्णय लिया गया है।

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने MP Board 10वीं-12वीं के प्रैक्टिकल परीक्षाओं के लिए समय सीमा में बढ़ोतरी की है। जहां 17 अप्रैल से होने वाली प्रैक्टिकल एग्जाम के लिए समय के बंधन को समाप्त किया गया है। वही बच्चे अपनी सुविधा के अनुसार 2 या 3 दिन में प्रैक्टिकल परीक्षा दे सकेंगे।

इससे पहले 15 मई तक का समय दिया गया था लेकिन प्रदेश में लगातार हजार से अधिक कोरोना मरीजों की संख्या में वृद्धि हो रही है। वही 5000 से 6000 मामले प्रतिदिन सामने आ रहे हैं। जिसको देखते हुए अब माध्यमिक शिक्षा मंडल ने प्रैक्टिकल परीक्षा में समय सीमा के बंधन को समाप्त कर दिया है।

Read More: सारंग के आश्वासन पर जूनियर डॉक्टरों ने जताया विश्वास, हड़ताल वापस

ज्ञात हो कि 17 अप्रैल से शुरू होने वाली परीक्षा 20 मई तक चलेगी। इस मामले में मंडल के अधिकारियों का कहना है की प्रायोगिक परीक्षा के लिए बच्चों को अधिक समय सीमा दिया जा रहा है। वही बोर्ड परीक्षा की तारीख भी आगे बढ़ाई जाएंगी। इसके बारे में जल्द निर्णय लिया जाएगा। मामले में बस मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मुहर लगनी बाकी है।

बता दें कि इससे पहले स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि 1 से 8वीं तक के स्कूल को 15 जून तक के लिए बंद कर दिया गया है। इस संबंध में शिक्षा विभाग की ओर से जल्द आदेश जारी कर दिया जाएगा। इससे पहले 15 अप्रैल तक स्कूल बंद रखने के आदेश जारी किए गए थे लेकिन अभी इसे 2 माह के लिए बढ़ा दिया गया है। वही इस बीच बच्चों को प्रोजेक्ट वर्क के आधार पर प्रमोट किया जाएगा।

MP Board: 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा के छात्रों को राहत, प्रैक्टिकल एग्जाम में समय बंधन समाप्त