MP By-election: हटाए जाएंगे इन जिलों के अफसर, आयोग ने कलेक्टरों को भेजा पत्र

खास बात ये है कि इस सीट पर 41 साल यानि 1980 के बाद पहली बार उपचुनाव (by-elections) होने जा रहे हैं।

By-election

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में एक बार फिर उपचुनाव (MP By-election) होने वाले है। आगामी दिनों में 1 लोकसभा और 3 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव  को लेकर चुनाव आयोग  ने तैयारियां शुरु कर दी है। आयोग ने आयोग ने 5 जिलों खंडवा, बुरहानपुर, निवाड़ी, सतना और अलीराजपुर में एक जगह पर 3 साल से जमे अफसरों को हटाने के निर्देश दिए है।इसके लिए आयोग ने पांचों जिलों के कलेक्टरों को पत्र लिखा है।

यह भी पढ़े..MP में BSP को बड़ा झटका- पूर्व महापौर प्रत्याशी समेत 1 दर्जन नेता कांग्रेस में शामिल

दरअसल, कोरोना के कंट्रोल और देशभर में अनलॉक की प्रक्रिया के बीच चुनाव आयोग (Election Commission) ने अलग अलग राज्यों में होने वाले उपचुनावों की तैयारियां शुरु कर दी है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने खंडवा-बुरहानपुर लोकसभा क्षेत्र, निवाड़ी, सतना और अलीरापुर जिला कलेक्टरों को पत्र लिखकर कहा है कि 3 साल से एक ही जगह जमे अधिकारियों को हटाया जाए।आने वाले दिनों में खंडवा लोकसभा सीट और 3 विधानसभा सीटों पर चुनाव होना है।

खंडवा लोकसभा सीट khandwa loksabha By-election) की बात करें तो यह बीजेपी सांसद नंदकुमार सिंह चौहान (Nandkumar Singh Chauhan) के निधन के बाद खाली हुई है, जिस पर उपचुनाव होना है, लेकिन बीते दिनों कोरोना की दूसरी लहर के चलते उपचुनाव टाल दिए गए थे। खास बात ये है कि इस सीट पर 41 साल यानि 1980 के बाद पहली बार उपचुनाव (by-elections) होने जा रहे हैं।

यह भी पढ़े.. मध्य प्रदेश के कर्मचारियों को जल्द बड़ा तोहफा दे सकती है शिवराज सरकार

इसके अलावा कोरोना से निवाड़ी पृथ्वीपुर से कांग्रेस विधायक बृजेंद्र प्रताप सिंह, जोबट से कांग्रेस विधायक कलावती भूरिया और रैगांव से भाजपा विधायक जुगल किशोर बागरी का निधन के बाद से ये विधानसभा सीटें खाली है, जिन पर भी उपचुनाव होना है।वही चुनावी आहट को भांपते हुए बीजेपी कांग्रेस ने भी मोर्चा संभाल लिया है।एक तरफ कमलनाथ के आगामी दिनों में दौरे होने है वही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सौगातों की झड़ी लगाना शुरु कर दिया है, इसका उदाहरण हाल में बुरहानुपुर जिले को दी गई करोड़ों की सौगात है। वही उपचुनाव के लिए दावेदारों और रणनीतियों पर फोकस किया जा रहा है।

कांग्रेस-बीजेपी से ये हो सकते है उम्मीदवार

खंडवा लोकसभा सीट की बात करें तो कांग्रेस (MP Congress) से पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण यादव (Arun Yadav) का नाम चर्चाओं में बना हुआ है।इसके कई कारण है पहला-गृह जिला खरगोन (Khargone) नजदीकी होना और दूसरा खंडवा से एक बार सांसद का चुनाव जीतना, तीसरा निमाड़ के प्रबल और इकलौते कांग्रेस नेता और चौथा पिता सुभाष यादव की राजनीति विरासत में मिलना भी उन्हें मजबूत बनाता है।

वही BJP की बात करें तो पूर्व प्रदेश संगठन महामंत्री कृष्णमुरारी मोघे, और पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस (Archana Chitnis) का नाम चर्चा में बना हुआ है। पूर्व मेयर सुभाष कोठारी और अशोक पालीवाल भी चर्चा में बने हुए है।वही नंदू भैया के बेटे हर्षवर्धन सिंह चौहान भी सक्रियता बढ़ाए हुए है।इसके अलावा पृथ्वीपुर विधानसभा से पूर्व मंत्री ब्रजेंद्र सिंह राठौर के बेटे नितेंद्र सिंह राठौड़, जोबट से पूर्व मंत्री सुलोचना रावत- विक्रांत भूरिया और मुकेश पटेल के नाम चर्चा में हैं।वही By-election के लिए बीजेपी से अभी नाम तय नहीं है।

(भोपाल से पूजा खोदाणी की रिपोर्ट)