भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भारत के महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (president ramnath kovind) दो दिवसीय यात्रा पर मध्य प्रदेश में है। राष्ट्रपति दमोह (damoh) में जनजातीय समूह के विकास कार्यों(Tribal group development works) का उद्घाटन कर रहे हैं। महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जनजातीय समूह के सर्वांगीण विकास के लिए मध्यप्रदेश जनजातीय विभाग द्वारा तैयार किया गया आदिरंग पोर्टल (Adirang Portal) का शुभारंभ भी किया गया है। इस दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) भी उनके साथ मौजूद हैं। जहां उन्होंने जनजातीय विकास सम्मेलन कार्यक्रम के दौरान जनजातीय छात्रों के लिए बड़ी घोषणा की है।

बड़ी घोषणा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चौहान ने कहा कि जनजातीय समुदाय के छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति (Scholarship) दी जाएगी। इसके अलावा उच्च शिक्षा (higher education) के लिए किराए पर मकान लेना भी पड़े तो उनका किराया राज्य सरकार वहन करेगी ताकि जनजातीय छात्रों की शिक्षा में किसी भी प्रकार की बाधा उत्पन्न ना हो।

इसके साथ ही सीएम शिवराज (CM Shivraj) ने कहा कि अत्यंत प्रतिभाशाली जनजातीय बच्चों की कोचिंग व्यवस्था भी सरकार द्वारा की जा रही है। उनकी पढ़ाई की फीस माता-पिता नहीं वरन शिवराज सरकार वहन करेगी। प्रदेश में जन कल्याणकारी संबल योजना को हमने फिर से शुरू किया है। जिससे गरीबों के जीवन में सकारात्मक बदलाव आएगा।

Read More: Shivpuri News: नहर में पानी ना खुलने से परेशान किसानों ने हाईवे पर किया चक्का जाम

आगे बोलते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि जनजातीय कलाकार भूरी बाई (bhuribai) को केंद्र सरकार द्वारा सम्मानित किया गया है। वहीं हमने भाइयों बहनों को वनाधिकार पट्टा देने का कार्य फिर से शुरू किया है। जिससे जनजातीय समुदाय के भाई-बहन अपने अधिकार की भूमि से कभी वंचित नहीं रहेंगे।

वही रानी दुर्गावती (rani durgavati) की प्रशंसा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अकबर ने अपने दूत को भेजकर दुर्गावती को अपने अधीन करने का प्रयास किया था लेकिन वीरांगना ने किसी की अधीनता स्वीकार नहीं की। मध्यप्रदेश ऐसी वीरांगना के वीरता साहस और शौर्य को प्रणाम करते हैं।

सिंगौरगढ़ किला के लिए बड़ी घोषणा करते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि दुर्गावती की वीरता का प्रतीक है। यह किला इसका जीर्णोद्धार किया जाएगा। इसके अलावा रानी का बलिदान दिवस अब 3 दिन तक देशभक्ति की प्रेरणा के रूप में मनाया जाएगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को धन्यवाद देते हुए कहा कि आपके आने से मध्यप्रदेश की धरती धन्य हुई है। मैं आपको धन्यवाद देता हूं।