MP School: शासकीय स्कूल से पिछड़े निजी विद्यालय, जल्द कार्य पूरे करने के निर्देश

इस मामले में स्कूल शिक्षा विभाग (school education department) द्वारा प्रदेश के सभी जिलों के निजी स्कूलों को नोटिस जारी किया गया था।

school

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (adhya prades) में निजी स्कूल (private school) की लापरवाही अब साफ नजर आ रही है। जिसका खामियाजा विद्यार्थियों (students) को भुगतना होगा। दरअसल मध्य प्रदेश में शासकीय योजनाओं (government plans) में छात्रवृत्ति का लाभ लेने के लिए विद्यार्थियों का प्रोफाइल अपडेशन (profile updation) का काम अनिवार्य कर दिया गया है। इस मामले में जहां एक तरफ निजी स्कूल पीछे नजर है। वही शासकीय स्कूल ने प्रोफाइल को अपडेट करने का काम पूरा भी कर लिया है।

बता दें कि जब तक विद्यार्थियों के प्रोफाइल अपडेशन का कार्य पूरा नहीं होगा। तब तक उन्हें छात्रवृत्ति (Scholarship) का लाभ नहीं दिया जाएगा। ऐसी स्थिति में शासकीय स्कूल द्वारा जहां बच्चों की प्रोफाइल अपडेट कर दिए गए हैं। वहीं निजी स्कूल इस कार्य में कोई रुचि नहीं दिखा रहे हैं। प्रदेश में अभी भी 30% विद्यार्थी का प्रोफ़ाइल अपडेट करना है। यह सभी विद्यार्थी निजी स्कूलों के बताए जा रहे हैं।

Read More: आक्रोशित कृषि छात्रों को गिरफ्तार कर भेजा जेल, 50 से ज्यादा स्टूडेंट्स पर प्रकरण दर्ज

हालांकि इस मामले में स्कूल शिक्षा विभाग (school education department) द्वारा प्रदेश के सभी जिलों के निजी स्कूलों को नोटिस जारी किया गया था। जिसके बाद इस काम में तेजी तो आई किंतु अभी काम पूरा नहीं किया गया। बता दें कि पिछली बार छात्रवृत्ति योजना का लाभ लेने से प्रोफाइल अपडेशन का काम पूरा नहीं होने के कारण बच्चे छात्रवृति पाने से वंचित रह गए थे। ऐसी स्थिति में इस काम में देरी कहीं न कहीं छात्रों के लिए परेशानी का विषय बन रही है।

ज्ञात हो कि मध्यप्रदेश में कक्षा 1 से 12वीं तक के छात्र छात्राओं के नाम उनकी उम्र अभिभावक का नाम, कक्षा, परीक्षा परिणाम, व्यवसाय, जन्म तिथि सहित अन्य तरह की जानकारी को स्कूल शिक्षा विभाग के पोर्टल पर अपडेट किया जाना है। इस मामले में अधिकारियों का कहना है कि शासकीय स्कूल द्वारा बच्चों के अपडेशन का काम पूरा कर लिया गया जबकि निजी स्कूल द्वारा अभी इस काम में अभी रुचि नहीं ली जा रही है अगर समय पर स्कूल प्रोफाइल अपडेशन का काम पूरा नहीं होता है तो अधिकारियों द्वारा कार्रवाई की जाएगी।