MP School: 1 जुलाई से प्रदेश में खुलेंगे स्कूल! इन फॉर्मूले पर बनेगी सहमति

जबकि पहली से 5वी तक के बच्चे को फिलहाल ऑनलाइन माध्यम से ही शिक्षा दी जाएगी।

mp board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। 1 जुलाई से मध्यप्रदेश में स्कूलों (MP School Reopen) को खोला जा सकता है। दरअसल सरकार द्वारा MP School 12वीं कक्षा स्कूलों में संचालित करने की तैयारी की जा रही है। ऐसे में सरकार ऐसे फार्मूला (formulae) की तैयारी है जिससे संक्रमण से बचते हुए स्कूलों (MP school) को खोला जा सके।

दरअसल चर्चाओं की माने तो प्रदेश के ऐसे गांव जहां संक्रमण के केस नहीं है। स्कूल खोले जाएंगे। वही संक्रमण वाले इलाकों में स्कूलों को बंद रखा जाएगा। ऐसे जिले हैं, जहां कोरोना संक्रमण के केस सामने नहीं आ रहे हैं। वहां स्कूल खोलने पर सहमति बन सकती है। इसके अलावा किस उम्र तक के बच्चों के लिए स्कूलों को खोला जाएगा इस पर भी सहमति बन सकती है।

मामले में मंत्री इंदर सिंह परमार (inder singh parmar) का कहना है कि एक जुलाई से स्कूल खोलने की तैयारी की जा रही है लेकिन बच्चों की सुरक्षा से समझौता नहीं किया जा सकता। फार्मूला तैयार किया जा रहा। जहां 6 से 8वीं तक के बच्चे को हफ्ते में एक या 2 दिन के लिए स्कूल भुलाया जा सकता है। वहीं नौवीं से बारहवीं तक के बच्चों के लिए ऑड इवन फार्मूले (odd even formulae) का इस्तेमाल किया जाएगा।

Read More : MP News: शिवराज सरकार की गरीबों के लिए बड़ी योजना, इस तिथि को बांटा जाएगा मुफ्त राशन

बता दे Corona की दूसरी लहर प्रदेश में धीमी पड़ रही है। वहीं तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए आपदा प्रबंधन समिति द्वारा अंतिम निर्णय लिया जाएगा। ज्ञात हो कि प्रदेश में डेढ़ साल से MP Schools को बंद रखा गया है। वहीं ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाई कराई जा रही है। जबकि शिक्षा विभाग (education department madhya pradesh) का कहना है कि ऑनलाइन माध्यम से बच्चों की पढ़ाई करवाई जा रही है लेकिन इससे उनका बौद्धिक विकास रुक गया है। जिस वजह से स्कूल खोलना जरूरी है।

स्कूलों को खोलने से पहले कई तरह के आंकलन आवश्यक है। सरकार को 1 जुलाई से स्कूल खोलना है। तैयार फार्मूला का जिक्र करें तो फिर 9वीं से 12वीं तक की कक्षा में एक साथ 40 विद्यार्थी को बुलाया जा सकता है। बच्चों की सुरक्षा का ख्याल रखा जाएगा। 6ठी से 8वीं तक के बच्चे को 1 हफ्ते में एक या 2 दिन के लिए स्कूल बुलाया जा सकता है। वहीं बच्चों की संख्या सीमित रखी जाएगी। जबकि पहली से 5वी तक के बच्चे को फिलहाल ऑनलाइन माध्यम से ही शिक्षा दी जाएगी।