न्यू यॉर्क में टाइम्स स्क्वायर पर पढ़ी गई पहली बार नमाज़, सोशल मीडिया पर छिड़ी बहस

हांलाकी वीडियो वायरल होने के बाद इस बात को लेकर सोशल मीडिया पर बहस छिड़ गई है। एक ओर जहां कुछ लोग सड़क पर इस तरह नमाज़ पढ़े जाने का समर्थन कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर कुछ लोग इसे गलत बता रहे हैं।

विदेश। रमजान का पवित्र महीना चल रहा है जिसमें पूरे विश्व के मुसलमान रोज़ा रखते हैं और इबादत करते हैं, कहते हैं ऐसा करने से अल्लाह उन्हें 70 गुना से भी ज्यादा पुण्य देता है। कहते हैं कि रमज़न के दिनों में अल्लाह ने कुरान लिखी थी जिसमें जिंदगी जीने के तरीके बताए गए हैं। यह महीना सुकून और सब्र का महीना कहलाता है जिसमें अल्लाह जन्नत के दरवाजे खोल देता है।

यह भी पढ़ें…MP Police Transfer: मध्य प्रदेश में 167 पुलिसकर्मियों के तबादले, यहां देखें लिस्ट

यूं तो नमाज़ पढ़ना किसी भी मुसलमान के लिए एक रोज़मर्रा की जिंदगी की बात है लेकिन अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर के टाइम्स स्क्वायर पर पढ़ी गई नमाज़ ने इतिहास रच दिया। यह इतिहास में पहली बार हुआ जब न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वायर पर नमाज़ अदा की गई। कई हजारों की तादाद में इकट्ठे होकर मुसलमानों ने यहां नमाज़ अदा की।

हांलाकी वीडियो वायरल होने के बाद इस बात को लेकर सोशल मीडिया पर बहस छिड़ गई है। एक ओर जहां कुछ लोग सड़क पर इस तरह नमाज़ पढ़े जाने का समर्थन कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर कुछ लोग इसे गलत बता रहे हैं।

यह भी पढ़ें…पंजाब नेशनल बैंक ने लागू किया नया नियम, धोखाधड़ी में कमी आने की उम्मीद

जो लोग इस बात का समर्थन कर रहे हैं उनका कहना है कि हम दुनिया में सभी लोगों को यह बताना चाहते हैं कि इस्लाम एक अमन पसंद धर्म है। हमारा मजहब हिंसा पसंद बिल्कुल भी नहीं है, हम इस गलत धारणा को खत्म करना चाहते हैं। वहीं दूसरी ओर कुछ मुसलमान इसका विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि न्यूयॉर्क शहर में लगभग 270 मस्जिद है तो फिर सड़क पर नमाज क्यों पढ़ना है? अगर आपको नमाज पढ़ना है तो मस्जिद में जाएं, यू सड़क पर नमाज़ पढ़कर और लोगों की जिंदगी में बाधा उत्पन्न ना करें। रास्ता बंद करने से और लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। हमें बाकी लोगों के बारे में भी सोचना चाहिए।