Petrol-Diesal Rate: आम जनता पर महंगाई की मार, फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जाने नई रेट

सरकार द्वारा पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के लिए कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों को जिम्मेदार माना जा रहा है।

Petrol Price

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। देश ने एक बार फिर से पेट्रोल और डीजल के दाम (petrol-diesal rate) में बढ़ोतरी की गई है। जिसका सीधा सीधा असर आम आदमी की जेब पर पड़ रहा है। दरअसल मंगलवार को पेट्रोल और डीजल के दाम को स्थिर रखा गया था। बुधवार को एक बार फिर इनकी कीमतों में इजाफा हुआ है। हर दिन तय होने वाले पेट्रोल और डीजल (diesal) की कीमत पहले से ही 100 रुपए प्रति लीटर के पास जा चुके हैं। जिसके बाद अब तेल कंपनियों (oil companies) द्वारा बुधवार को पेट्रोल के भाव 25 पैसे जबकि डीजल के भाव में 14 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई है।

बुधवार को नए भाव तय होने के बाद देश के कई शहरों में पेट्रोल (petrol) की कीमत 100 रुपए के पार पहुंच गई है। वहीं ईंधन की बढ़ती कीमत से देश की आम जनता परेशान है। दिल्ली-मुंबई, मध्य प्रदेश के कई जिले सहित अन्य राज्यों में पेट्रोल की कीमतों में भारी इजाफा देखने को मिल रहा है। सरकार द्वारा पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के लिए कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों को जिम्मेदार माना जा रहा है।

Read More: MPPSC: आयोग ने निकाली इन पदों पर भर्ती, 24 जून से शुरू होंगे ऑनलाइन आवेदन

वही आज हुई पेट्रोल डीजल की बढ़ोतरी के बाद राजधानी दिल्ली में पेट्रोल प्रति लीटर 96.66 जबकि डीजल के भाव 87.41 रुपए पहुंच गए हैं। वहीं मुंबई में पेट्रोल की कीमत शतक के पार पहुंच गई है। मुंबई में पेट्रोल की कीमत 102.82 रुपए रखी गई है। वही मध्य प्रदेश के कई शहरों में पेट्रोल की कीमत 104.87 रूपए रिकॉर्ड की गई है।अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में इजाफा देखा जा रहा है। मंगलवार को क्रूड ऑयल बेंच मार्क 0.65 फीसद बढ़कर 72.59 डालर प्रति बैरल पर पहुंच गया है।

बता दे कि पूरे विश्व में कोरोना का प्रकोप जारी है। जिसके बाद कोरोना वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू होने के बाद क्रूड ऑयल की रेट में तेजी से बढ़ोतरी देखी गई। वहीं कंपनी के Base प्राइस तय करने के बाद उस पर कई तरह के टैक्स और कमीशन लगते हैं। जिसके बाद हर शहर में पेट्रोल और डीजल की कीमतों के दाम बढ़ जाते हैं। हालांकि हाल ही में भारत सरकार ने राज्य को पेट्रोल और डीजल पर लगाए जाने वाले वेट कम करने को कहा है। मध्यप्रदेश में इन वैट टैक्स की रेट सबसे अधिक है।