भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। गैंगस्टरों व अपराधियों को देशभर में गैरकानूनी हथियारों की सप्लाई करने वाले नेटवर्क का पंजाब पुलिस ने पर्दाफाश किया है। पुलिस ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए बड़वानी जिले से मुख्य सप्लायर बलजीत सिंह उर्फ स्वीटी को गिरफ्तार किया है। उसके पास से तीन पिस्तौलें बरामद हुई हैं। आरोपित अपने भाई के साथ मिलकर गैरकानूनी हथियारों के प्रमोशन के लिए एक यू-ट्यूब चैनल भी चला रहा था। बड़वानी जिले के उमरती निवासी बलजीत सिंह और उसका बड़ा भाई सुमेर कई वर्षों से हथियारों के इस निर्माण और सप्लाई के कारोबार में शामिल थे। वे ग्राहकों को लुभाने के लिए अलग-अलग इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्मों पर पिस्तौलों की वीडियो अपलोड करते थे। इंटरनेट मीडिया पर ही देखकर पंजाब के लुटेरा गिरोह के सदस्यों ने उनसे संपर्क किया।

Chhatarpur News: करंट लगने से एक ही परिवार के 6 लोगों की दर्दनाक मौत, 2 की हालत गंभीर

पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया कि बलजीत सिंह गैरकानूनी हथियारों के निर्माण और उनकी उत्तर भारत के विभिन्न् राज्यों में सप्लाई के धंधे में शामिल था। कपूरथला पुलिस ने उसके पास से (.32 बोर) की तीन पिस्तौलें और तीन मैगजीन भी बरामद की है।

चार लुटेरों को पकड़ने के बाद मिला सुराग

डीजीपी ने बताया कि एसएसपी हरकमलप्रीत सिंह के नेतृत्व में कपूरथला पुलिस ने चार लुटेरों को दस पिस्तौलों व एक राइफल के साथ गिरफ्तार किया था। उसके दस दिन बाद यह सफलता मिली। इन लुटेरों ने पूछताछ में बताया कि वे बलजीत सिंह से हथियार ले रहे थे। इसके बाद पुलिस ने बलजीत सिंह की गिरफ्तारी के लिए वारंट हासिल किया। मप्र पुलिस के साथ तालमेल के बाद एक विशेष टीम को बड़वानी भेजा गया, जिसने उसे गिरफ्तार कर लिया। हालांकि, बलजीत ने गिरफ्तारी से बचने के लिए नर्मदा नदी पार कर महाराष्ट्र की सीमा में दाखिल होने की कोशिश भी की थी।

कल्पना चावला के बाद भारत की बेटी ‘सिरिशा बांदला’ आज अंतरिक्ष के लिए भरेंगी उड़ान

यू-ट्यूब चैनल पर करते थे हथियारों का प्रमोशन

आजाद ग्रुप मुंजर’ के नाम से बनाया यू-ट्यूब चैनल : एसएसपी हरकमलप्रीत सिंह ने बताया कि प्राथमिक जांच में यह पता चला है कि आरोपी स्वीटी ‘आजाद ग्रुप मुंजर’ के नाम से एक यू-ट्यूब चैनल चला रहा था, जिस पर वह अपने गैरकानूनी हथियारों की प्रमोशन करता था। जब खरीदार कीमत के बारे में पूछते थे तो यह ग्रुप अपना वाट्सएप नंबर देता था। स्वीटी ने खुलासा किया है कि उनके गांव उमरती में 40-45 घरों में से 20 से अधिक घर गैरकानूनी हथियारों खासकर .30 बोर और .32 बोर पिस्तौलों के निर्माण और बिक्री के कारोबार में शामिल हैं।