नहीं थम रही कांग्रेस में सियासत, प्रवीण पाठक ने दिया अरुण यादव को ये जवाब

तब मैं चंबल की माटी में शान से अपनी पार्टी के साथ खड़ा था । मेरे खून में कांग्रेस है,मेरे सिद्धान्तो में गांधी ।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। हिन्दू महासभा से पार्षद रहे बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) के कांग्रेस में आने के बाद एक बार फिर गाँधी बनाम गोडसे पर सियासत तेज हो गई है। भाजपा जहाँ इसे लेकर कांग्रेस पर हमलावर है तो वहीँ कांग्रेस की अंदरूनी राजनीति भी तेज हो गई है। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव (Arun Yadav)  ने तो खुलकर विरोध का एलान कर दिया है।  अरुण यादव के बयान पर बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) को कांग्रेस में लाने वाले विधायक प्रवीण पाठक  (Praveen Pathak) ने भी पलटवार किया है।  इस बीच हिन्दू महासभा छोड़कर कांग्रेस ज्वाइन करने वाले पूर्व पार्षद बाबूलाल चौरसिया ने भी अरुण यादव पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

 ये भी पढ़ें – आशा कार्यकर्ताओं के लिए शिवराज सरकार का बड़ा फैसला, मिलेगा लाभ

ग्वालियर नगर निगम के वार्ड 44 से हिन्दू महासभा के नेता और मध्यप्रदेश के इकलौते पार्षद रहे बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) को ग्वालियर दक्षिण विधानसभा से कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने पिछले दिनों प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के सामने कांग्रेस क्या ज्वाइन कराई कार्ति में भूचाल आ गया। दिग्विजय सिंह, सज्जन सिंह वर्मा सहित कुछ अन्य नेताओं ने इस बात का स्वागत किया कि  कोई गोडसे की विचारधारा को छोड़कर कांग्रेस की विचारधारा को अपना रहा है उसका स्वागत है।  लेकिन पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव को गोडसे भक्त बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) की कांग्रेस में वापसी अच्छी नहीं लगी और उन्होंने विरोध का खुला एलान कर दिया है।  उन्होंने ट्वीट किया बापू हम शर्मिंदा हैं , फिर एक पत्र लिखकर कहा कि  महात्मा गाँधी और गाँधी विचारधारा के हत्यारे के खिलाफ मैं  खामोश नहीं नहीं बैठ सकता।

अरुण यादव (Arun Yadav) के एलान के बाद हिन्दू महासभा नेता बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) को कांग्रेस में वापस लाने वाले विधायक प्रवीण पाठक (Praveen Pathak)  ने अरुण यादव (Arun Yadav) पर निशाना साधा है।  प्रवीण पाठक ने ट्वीट कर कहा – “जब निमाड़ में आप ही की लोकसभा क्षेत्र के 2 आपके ही के ख़ास विधायक अपनी माँ समान पार्टी को छोड़ गोडसे की विचारधारा वाली पार्टी में चले गए थे, तब मैं चंबल की माटी में शान से अपनी पार्टी के साथ खड़ा था । मेरे खून में कांग्रेस है,मेरे सिद्धान्तो में गांधी ।

एक अन्य ट्वीट में विधायक प्रवीण पाठक (Praveen Pathak) ने कहा -“गोडसे की विचारधारा को ख़त्म करने के लिए संकल्पित हूँ।  जो लोग भी गोडसे की विचार धारा को छोड़ के गांधी जी को आत्मसात करना चाहते हें उनका स्वागत है। उन्होने एक शेर लिखकर बिना नाम लिया इशारा किया – ‘’किसी भी घर की दीवारें, पड़ोसी की चोट से नहीं बल्कि घर मे रहने वालों के खोट से दरकती है’’

उधर कांग्रेस में वापसी करने वाले पूर्व पार्षद बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) ने अरुण यादव (Arun Yadav) पर गंभीर आरोप लगाए। बाबूलाल ने कहा कि  सब जानते हैं कि  2014 में पीसीसी के तत्कालीन अध्यक्ष अरुण यादव ने कैसे टिकट बांटे थे ये कोंग्रेसी जानते हैं।  मैं तब कांग्रेस से ही पार्षद था लेकिन मेरा टिकट अरुण यादव ने काट दिया।  मगर मेरे क्षेत्र की जनता ने मुझे प्यार दिया मैं हिन्दू महासभा के टिकट पर पार्षद बना।