Sabyasachi Mangalsutra Ad: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता की पत्नी ने जताई Narottam के इस कदम से सहमति

मशहूर फैशन डिजाइनर सब्यसाची मुखर्जी ने अपने इंस्टाग्राम पर मंगलसूत्र के विज्ञापन दिए थे।

नरोत्तम मिश्रा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। वरिष्ठ कांग्रेस नेता (congress leader) व विधायक लक्ष्मण सिंह (lakshman singh) की धर्मपत्नी रुबीना शर्मा सिंह ने मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा (narottam) की एक कठोर कार्रवाई का स्वागत किया है। दरअसल रविवार को मशहूर फैशन डिजाइनर सब्यसाची मुखर्जी के मंगलसूत्र विज्ञापन पर नरोत्तम ने कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी थी।

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह के छोटे भाई, पूर्व सांसद और वर्तमान में कांग्रेस के विधायक लक्ष्मण सिंह की पत्नी रुबीना शर्मा सिह ने ट्वीट करके मध्य प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा की कारवाई का स्वागत किया है। दरअसल रविवार को गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने देश के जाने-माने फैशन डिजाइनर सब्यसाची मुखर्जी के इंस्टाग्राम पर प्रदर्शित मंगलसूत्र के एक विज्ञापन को लेकर कड़ी आपत्ति जताई थी और मुखर्जी को 24 घंटे के भीतर यह विज्ञापन वापस लेने की चेतावनी अन्यथा परिणाम के लिए तैयार रहने को कहा था।

Read More: अतिथि विद्वानों को दिवाली से पहले मिला बड़ा तोहफा, 2 महीने बढ़ाया गया कार्यकाल, वेतन में वृद्धि

इसके कुछ घंटे बाद ही मुखर्जी ने यह विज्ञापन इंस्टाग्राम से हटा दिया और धर्म विशेष की भावनाएं आहत होने के लिए खेद भी जताया। नरोत्तम के इस कदम का लक्ष्मण सिंह की पत्नी रुबीना शर्मा सिंह ने स्वागत किया है। उन्होंने ट्वीट करके लिखा है”मैं इस मामले पर @drnarottammisra जी से 100% सहमत हूं।
विज्ञापन अश्लील और आपत्तिजनक है। अपमान भी।”

क्या था मामला

मशहूर फैशन डिजाइनर सब्यसाची मुखर्जी ने अपने इंस्टाग्राम पर मंगलसूत्र के विज्ञापन दिए थे। इस विज्ञापन में एक अर्धनग्न युवती और युवक आलिंगन करते हुए दिखाए गए थे और युवती के गले में डिजाइनर मंगलसूत्र डला था। प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने इस पर आपत्ति जताते हुए कहा था कि यह धार्मिक भावनाओं को आहत करता है।

उन्होंने मंगलसूत्र को शिव पार्वती का प्रतीक बताते हुए कहा था कि शिव के रूप में काले रंग का धागा रक्षा करता है और पार्वती सुख व समृद्धि का प्रतीक है। नरोत्तम ने मुखर्जी को इस विज्ञापन को तुरंत वापस लेने के लिए चेतावनी दी थी और ऐसा ना होने पर वैधानिक कार्रवाई करने की बात भी कही थी।